इलाज न मिलने से भाजपा कार्यकर्ता की पोती ने तोड़ दम

अनहोनी हरियाणा

प्रदेश में बेटी बचाने की बात कि जा रही है, बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ अभियान भी चलाया जा रहा है। लेकिन दूसरी तरफ नारनौल के सरकारी अस्पताल में बेटियां इलाज के अभाव में दम तोड़ती नजर आ रही हैं।

मामला नारनौल के सरकारी अस्पताल से सामना आया है जिसमें दो दिन पहले जन्मी बच्ची ने इलाज के अभाव में दम तोड़ दिया।

बच्ची के परिजनों ने बताया कि दो दिन पहले पैदा हुई नवजात की तबीयत खराब होने पर उसे उपचार के लिए यहां के नारिक अस्पताल में लेकर आए थे। अस्पताल में बच्चों का डॉक्टर उपलब्ध न होने की बात कहकर नवजात का दो घंटे तक उपचार शुरू नहीं किया गया।

आरोप लगाते हुए परिजनों ने कहा है कि इलाज न शुरू करने के कारण बच्ची ने दम तोड़ दिया।
परिवार वालो ने जब इसकी शिकायत अस्पताल चौकी में करनी चाही तो उन्होंने शिकायत लेने से ही मना कर दिया गया। बाद में बच्ची के पिता बिजेंद्र ने सिविल सर्जन को लिखित शिकायत दी।

नारनौल के नागरिक अस्पताल में मरीजों का ठीक से इलाज न करने की घटनाएं आए दिन सुनने में मिल रही है। लेकिन बीते दिन जो बच्ची इलाज के अभाव का शिकार हुई है वो भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता औमप्रकाश की पौती है। गांव धानौता निवासी ओमप्रकाश को हाल ही में सरकार द्वारा मार्केट कमेटी का सदस्य नियुक्त किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *