गाय के चारे पर 150 रूपये ही साल के खर्च करती है सरकार, यानि साढ़ेे 12 रूपये प्रतिमाह

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा

गायों को लेकर सरकार कितनी सीरियस यह कभी-कभी साफ झलक जाता है। हरियाणा में अब तक हुई गायों की या तो भुख, प्यास से हुई है या ठंड़ से हुई है। अंबाला जिले की सुल्लर गौशाला में अब तक 160 गाय मर चुकी है, तो हिसार में भी 20 गाय भुख से मरी थी। लगभग सभी गायों के पेट से पोलिथीन मिला है। वहीं हैरानी की बात है कि सरकार 1 गाय के चारे पर बस 150 रूपये प्रतिवर्ष खर्च का ही बजट में प्रावधान किया है।

27 नंवबर 2017 को अंबाला जिले की सुल्लर गौशाला में भुख से मरी गायों ने तुल पकड़ा था तो शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा गौशाला गयें थे। तब वहां 140 गाय मरी था, लेकिन तब से अब तक 32 गाय और मर चुकी है। इससे पहले बताया गया था कि सड़को पर अकेले हरियाणा में 1 लाख 17 हजार गाय घुम रही है।

हरियाणा में 465 गौशालाएं है जिनमें 3 लाख 33 हजार गाय शेल्टर में है। यानि एक गौशाला में 716गाय है। जबकि सुल्लर गौशाला की क्षमता 170 गाय की ही है।
सबसे बड़ा सवाल ये है कि सरकार 150 रूपये सलाना खर्च करेगी यानि साढे 12 रूपये प्रतिमाह, इस हिसाब से गाय भुख से ही मरेगी। बता दे कि अगर हर गाय को भरपूर चारा देना है तो सरकार को 1000 करोड़ के अधिक के बजट की आवश्यकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *