धमकियों के चलते एक और अन्नदाता ने दी जान

अनहोनी खेत-खलिहान

पलवल के सिहौल गांव में एक किसान ने डीएसपीआई मिल्क प्लांट के अन्दर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह कंपनी से निकलने वाली काली राख से फसल खराब होने से दुखी था और शिकायत करने पर कंपनी प्रंबधन उसको जान से मारने की धमकी दे रहे थे।

मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए पलवल सिविल अस्पताल लाया गया है। गांव सिहौल निवासी हरिश्चंद्र ने बताया कि 45 वर्षीय मृतक बीर सिंह गांव में ही खेती बाड़ी का काम करता था।

पलवल-अलीगढ रोड पर मृतक ने डीएसपीआई मिल्क प्लांट के पास पट्टे पर जमीन ले रखी थी जिस पर मृतक ने गैंहू की फसल लगाई हुई थी। परिजनों का आरोप है कि प्लांट से निकलने वाले प्रदूषण व काली राख से किसान की फसल खराब हो रही थी।

मृतक किसान अपनी फसल को लेकर चिंतित था और वह पॉल्यूशन कंट्रोल करने की बात कहने के लिए कंपनी के मालिक और मैनेजर के पास गया। कंपनी मालिक और मैनेजर से जब उसने पॉल्यूशन से फसल खराब होने की बात कही तो उन्होंने किसान को धमकी दी।

कंपनी मालिक और मैनेजर की धमकियों के चलते किसान ने कंपनी में पेड़ से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस कंपनी प्रंबधकों के दवाब में काम कर रही है। मामले को लेकर पुलिस और परिजनों के बीच जमकर कहासुनी भी हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *