Home कला-संस्कृति फागण की होळी.. भाभियां आळे थाणे मै

फागण की होळी.. भाभियां आळे थाणे मै

0
0Shares

फागण की होळी तो आ देख ल्यो हरियाणे मै

टोरा कसुत्ता पावेगा भाभियाँ आळे थाणे मै

 

गोबर माट्टी का नाम बड़ा है हरियाणे की होळी मै

नाळी-नाळे भरे पड़े सै देवर-भाभी न लेटाणे मै

 

नई भावज जब घर आवे खेलण आळे आ जा सै

बिन बताए भांग मिला दें भाभी आळे खाणे मै

 

बटेऊ की भी काण नी बिटोड़े सा थे दे सै

बिन आए भी डान्स करा दें ताऊ आळे गाणे मै

 

के पुछोगे भाई थाम हरियाणे की होळी का

गोबर का गुलाल बणा क माहिर है लगाणे मै

 

कोय दिन भी छोड़ै कोनी फागण के पखवाड़े का

सै मजा भाभी-साली न जोहड़ बीच नवहाणे मै

 

कीमे कसर फेर छोड़े कोनी भाभी म्हारे गाम की

एम्ए बीए कर राखी जब कोरडे तै लाल बणाणे मै

 

खेल्दै-2 पहुँच ले सै  जब खेताँ आळी गार मै

आवभगत भाभी की होवै उसकी बहण पटाणे मै

 

मज़ा ‘पूनम’ जब आवै सै पुरे गाम की गलियों का

कोरडा ठाए लोग मिलजै लुगाइयां आळे बाणे मै

 

                        – पूनम पांचाल, सफीदों

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In कला-संस्कृति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

राहत की खबर- हरियाणा का यह जिला फिर हुआ कोरोना मुक्त, एक मरीज को किया डिस्चार्ज

Yuva Haryana, Yamunanagar कोरोना का क…