बीजेपी के चार पूर्व सीपीएस की सदस्यता पर लटकी तलवार, हाईकोर्ट में याचिका दायर

बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा

दिल्ली में आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द होने के बाद अब हरियाणा बीजेपी के चार विधायकों की सदस्यता पर तलवार लटकने लगी है।

इस बारे एडवोकेट जगमोहन भट्टी ने पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका डालकर बीजेपी के चार विधायकों मे सदस्यता रद्द करने की मांग की है।

PUNJAB AND HARYNA HIGH COURT

याचिका में कहा गया है कि बीजेपी के चार विधायकों ने CPS रहते हुए सभी सुविधाएं और लाभ उठाए थे, जो ऑफिस ऑफ प्रोफिट के दायरे में आता है। इस लिए संविधान के आर्टिकल190 और 102 के तहत इनकी मान्यता रद्द होनी चाहिए

इन विधायकों की मान्यता रद्द हो सकती है

विधायक कमल गुप्ता, बख्शिश सिंह विर्क, सीमा त्रिखा और श्याम सिंह राणा की विधानसभा सदस्यता जा सकती है। हालांकि हाईकोर्ट के फैसले के बाद पिछले साल 5 जूलाई को सभी CPS को हटा दिया गया था।

सरकार अब भी सेफ
90 सदस्यों वाली विधानसभा में बीजेपी के कुल 47 विधायक हैं। साथ ही 5 निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन हासिल है। यदि ऐसे में विधायकों की सदस्यता रद्द होती है तो भी सरकार पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है।

वहीं इस मामलें में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि हरियाणा में पहले से ही ऐसे कानून है, जो ऑफिस ऑफ प्रोफिट के दायरे के सीपीएस बाहर करते है। लेकिन जब हाईकोर्ट ने सीपीएस की नियुक्ती को गलत बताया तो उन्हें हटा दिया गया था।

पूर्व चारों CPS मुख्यमंत्री के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *