मानव तस्करी में फंसी है सैकड़ों लड़कियां, इन्हे बचा लो कोई

अनहोनी हरियाणा

दो साल में गायब हुई 1782 लड़कियां। 565 का कोई सुराग नहीं।

हरियाणा से नाबालिग लड़कियों को अगवा करके दूसरें राज्यों मे भेजा जा रहा हैं। पिछले दो साल में प्रदेश में कुल 3410 बच्चे गायब हुए, उनमें 1782 लड़कियों थी।

जिसमें से केवल 1217 लड़कियों को ही पुलिस बरामद कर सकी, जबकि अन्य का अब तक कोई सुराग नहीं मिला।

हरियाणा में लड़कियों की खरीद- फरोख्त का धंधा कम जरूर हुआ है पर खत्म नहीं हो पाया है। पूर्वोत्तर राज्यों से नाबालिग लड़कियों की तस्करी कर उन्हें देह व्यापार और मजदूरी में धकेला जा रहा है।

फरीदाबाद में हाल ही में मानव तस्करी का पर्दाफाश हुआ है। जिसके बाद पुलिस के हाथ काफी जानकारियां लगी हैं जिससे कुछ और मानव तस्करों तक पहुंचने की उम्मीद बंधी है। पकड़े गए दोनों आरोपियों ने बताया कि 5 से 25 हजार में लड़कियों को खरीदा- बेचा जा रहा है।

हरियाणा में लड़कियों की कमी और कुंवारों की फौज होने के चलते मानव तस्करों को यहां आसानी से ग्राहक मिल रहे है।

झारखंड,पश्चिम, बंगाल, असम, बिहार, आंध्र प्रदेश और छत्तीसगढ़ की लड़कियां गिरोह के निशाने पर है।
इन राज्यों की लड़कियों को नौकरी का झांसा देकर दिल्ली लाया जाता है और इनसे जबरन जिस्मफरोशी का धंधा कराया जाता है। करनाल, यमुनानगर, मेवात, रेवाड़ी, कुरुक्षेत्र,जींद, यमुनानगर, और हिसार में इन लड़कियों की मांग है।

डीजपी संधू ने कहा है कि लडकियों की खरीद- फरोख्त रोकने के लिए पुलिस ने एक बार फिर अभियान छेड़ा है। पूरे प्रदेश मे ऑपरेशन चलाकर मानव तस्करी के मामलों की शिनाख्त की जाएगी। लड़कियों से यौन शोषण के मामलों में अफसरों को तुरंत एक्शन लेने की हिदायत दी गई है।

लेकिन क्या हर बर की तरह सिर्फ शुरुआत में ही प्रशांसन गर्मी दिखाएगी और उसके बाद ढीली पढ़ जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *