39.2 C
Haryana
Sunday, September 20, 2020

शिरोमणि अकाली दल का अपनी पुरानी सहयोगी इंडियन नेशनल लोकदल और बीजेपी से अलग जाकर हरियाणा चुनाव लड़ने का फैसला

Must read

Haryana में किसानों का विरोध प्रदर्शन, कई हाईवे हुए बंद, देखिये तस्वीरें

Yuva Haryana News Chandigarh, 20 September, 2020 कृषि अध्यादेशों को लेकर किसानों ने आज हरियाणा में चक्का जाम किया है। प्रदेश में किसान ट्रैक्टर लेकर हर...

Haryana में 63 सड़कों की बदलेगी सूरत, CM ने Upgrade के लिए183 करोड़ रुपये किए मंजूर

Yuva Haryana News Chandigarh, 19 September, 2020 हरियाणा में यात्रियों की सुविधा के लिए सड़क तंत्र को और मजबूत करने के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर...

गिरदावरी में अनियमितता पाई गई तो DC ने पटवारी को किया सस्पेंड

Yuva Haryana News Sonipat, 19 September, 2020 सोनीपत जिला उपायुक्त श्याम लाल पूनिया ने मेरी फसल मेरा ब्यौरा के अंतर्गत गिरदावरी में अनियमितता पाये जाने पर...

Haryana में आज कोरोना के 2691 नए केस, हर जिले का हाल जानिये-

Yuva Haryana News Chandigargh, 19 September, 2020 हरियाणा में कोरोना के लगातार मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। हर दिन दो हजार से अधिक पॉजिटिव केस...

हरियाणा में इनैलो और केंद्र में भाजपा की सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल ने प्रदेश में होने वाले अगामी विधानसभा चुनावों में अकेले ही लड़ने का फैसला किया है। अकाली ने अपने दशकों पुराने गठबंधन सहयोगी इंडियन नेशनल लोकदल के साथ पिछले साल ही संबंधों को तोड़ दिया था और अकेले ही चुनाव में जाने का फैसला किया था। तो वहीं केंद्र में भाजपा के खिलाफ भी खड़े होने का फैसला किया है। हरियाणा में 2014 के विधानसभा चुनावों में एसएडी ने आईएनएलडी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था जिसके बाद भाजपा में काफी बैचेनीं बढ़ी थी। बता दें कि चौटाला परिवार के बादल परिवार से राजनीतिक से ज्यादा पारिवारिक संबंध हैं।

शिरोमणि अकाली दल ने हरियाणा में अपने पर्यवेक्षक नियुक्त करने शुरू कर दिये है, जो 2019 के चुनावों के लिए कार्यकर्ताओं को जुटाने का काम करेंगे। वरिष्ठ अकाली नेता और सांसद बलविंदर सिंह भंवर ने हरियाणा में पार्टी प्रभारी की नियुक्ति के लिए बैठक की अध्यक्षता की जिसमें पार्टी ने हरियाणा इकाई के शरदजीत सिंह साहोटा को फिर से पार्टी प्रमुख नियुक्त किया है। शिरोमणि अकाली दल ने हरियाणा में 90 विधानसभा सीटों में से 55 में चुनाव लडने का निर्णय लिया है। बता दें कि हरियाणा में 35 विधानसभा सीटों में सिख मतदाताओं की बड़ी उपस्थिति है। तो वहीं एसएडी का इनैलो से अलग हो जाने का एक मुख्य कारण 2016 में सतलुज-यमुना लिंक (एसवाईएल) नहर की जमीन को उनके मूल मालिकों को वापिस करना माना जा रहा है। जिस पर आईएनएलडी ने आपत्ति जताई थी। एसवाईएल हरियाणा-पंजाब के लिए हमेशा से ही मुख्य मुद्दा रहा है।

More articles

Latest article

Haryana में किसानों का विरोध प्रदर्शन, कई हाईवे हुए बंद, देखिये तस्वीरें

Yuva Haryana News Chandigarh, 20 September, 2020 कृषि अध्यादेशों को लेकर किसानों ने आज हरियाणा में चक्का जाम किया है। प्रदेश में किसान ट्रैक्टर लेकर हर...

Haryana में 63 सड़कों की बदलेगी सूरत, CM ने Upgrade के लिए183 करोड़ रुपये किए मंजूर

Yuva Haryana News Chandigarh, 19 September, 2020 हरियाणा में यात्रियों की सुविधा के लिए सड़क तंत्र को और मजबूत करने के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर...

गिरदावरी में अनियमितता पाई गई तो DC ने पटवारी को किया सस्पेंड

Yuva Haryana News Sonipat, 19 September, 2020 सोनीपत जिला उपायुक्त श्याम लाल पूनिया ने मेरी फसल मेरा ब्यौरा के अंतर्गत गिरदावरी में अनियमितता पाये जाने पर...

Haryana में आज कोरोना के 2691 नए केस, हर जिले का हाल जानिये-

Yuva Haryana News Chandigargh, 19 September, 2020 हरियाणा में कोरोना के लगातार मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। हर दिन दो हजार से अधिक पॉजिटिव केस...

Haryana में कल फिर किसान आंदोलन का ऐलान, CM Manohar Lal ने की अपील

Yuva Haryana News Chandigarh, 19 September, 2020 हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एक अपील में किसानों के हितों की सुरक्षा के प्रति हरियाणा सरकार...