स्कूल बस पर हमले के चलते पुलिस ने 31 लोगों को लिया हिरासत में, करणी नेता सूरजपाल सिंह अम्मू भी गिरफ्तार

Breaking बड़ी ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट में सारी याचिकाएं खारिज होने के बाद पूरे देश में संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ रिलीज हो चुकी है। फिल्म पद्मावत के खिलाफ सबसे अधिक विरोध जताने वाले करणी सेना के वरिष्ठ नेता सूरजपाल सिंह अम्मू को गुरुवार की शाम गुरुग्राम पुलिस ने कुछ देर तक हिरासत में रखने के बाद गिरफ्तार कर लिया। उन्हें एमजी रोड एस्सेल टावर स्थित उनके निवास से हिरासत में लिया गया था।
इस दौरान उनके निवास स्थान के चारों तरफ भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था, ताकि किसी भी स्थिति से निबटा जा सके। वहीं, अम्मू का आरोप है कि उन्हें सुबह से ही घर में नजरबंद कर दिया गया। वह शांतिपूर्ण तरीके से फिल्म के खिलाफ विरोध जता रहे हैं।
बता दें कि करणी सेना के वरिष्ठ नेता अम्मू हमेशा से ही अपने विवादित ब्यानों को लेकर चर्चा में रहे है

तो वहीं पद्मावत के विरोध में आगजनी और जाम लगाने के आरोप में पुलिस ने गुरुग्राम और सोहना से 31 लोगों को गिरफ्तार करके अलग-अलग थानों में विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।
पुलिस ने 18 लोगों को सोहना के भोंडसी में रोडवेज बस जलाने और स्कूल बस पर पथराव करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इन सभी पर हत्या के प्रयास का भी मामला दर्ज किया गया है।
सभी आरोपियों को अदालत में पेश किया। इनमें से 10 वयस्क आरोपियों को जेल भेज दिया गया जबकि बाकी के आठ नाबालिग आरोपियों को न्यायिक अभिरक्षा में फरीदाबाद स्थित शेल्टर होम में पहुंचाया गया है।
एमजी रोड से दो गिरफ्तार
तो वहीं गुरुग्राम के सेक्टर-29 थाना पुलिस ने एमजी रोड से दो लोगों को डीटी मेगा मॉल में प्रंबधन स्क्रीन तोड़ने पर गिरफ्तार किया है।

सेक्टर-14 थाना पुलिस ने राजपूत वाटिका से बुधवार रात छह लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। पुलिस को उन पर शक था कि कहीं यह लोग कोई उत्पात न मचाएं। सभी को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया है ,जहां से सभी को जेल भेजा गया है। रामपुरा हाईवे पर लगाया
खेड़की दौला थाना पुलिस ने पांच लोगों को जाम लगाने के विरोध में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। इंस्पेक्टर यशवंत यादव ने बताया कि गुरुवार रात को कुछ युवक हाइवे पर रामपुरा के पास जाम लगा कर वाहनो को रोक रहे थे। इस दौरान पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया और कुछ भागने में कामयाब हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *