हरियाणा के सरकारी स्कूलों को मिलेगी स्कूल बसें, मोरनी से हुई शुरूआत

चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा विशेष

प्रदेश के दुर्लभ व चुनौतीपूर्ण इलाकों में रहने वाले सरकारी स्कूलों के बच्चों और अभिभावकों के लिए खुश खबरी है, क्योंकि अब उन्हें निजी स्कूलों की तरह निजी वाहन स्कूल तक लेकर जाएंगे और उन्हें घर के करीब छोड़ेगी।

निजी वाहनों को अनुबंधित करने का जिम्मा स्कूलों के प्रिंसिपलों पर छोड़ा गया है, वाहनों का खर्च सरकार अपने स्तर पर उठाएगी। इस अहम योजना को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर फिलहाल मोरनी, टिक्करताल जैसे दुर्गम इलाकों में शुरू किया जा रहा है।

दुर्लभ व चुनौतीपूर्ण क्षेणों में अक्सर सरकारी स्कूलों के बच्चे सरकारी बसों, निजी वाहनों का घंटों इंतजार करते हैं, जिसमें कईं तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। कईं जिलों में कईं बार छात्राओं से छेड़छाड़ की घटनाएं भी हुई हैं।

मोरनी के बाद इस अहम योजना को पलवल, हथीन, मेवात, नूंह, महेंद्रगढ़ सहित अन्य कईं जिलों में लागू करने के लिए योजना तैयार है। पहले मोरनी में प्रयोग सफल रहने के बाद इस पर काम होगा।