1 रूपये के लिए रोडवेज के चक्कर लगाता एक यात्री, कहा बात रूपये की नहीं स्वाभिमान की है

हरियाणा

हरियाणा में एक यात्री आजकल अपने स्वाभिमान के लिए रोडवेज के चक्कर लगा रहा है। अप्रैल 2015 में रोडवेज बस में एक यात्री ने आसाखेड़ा से डबवाली तक यात्रा की थी।

बस कंडक्टर ने यात्री से किराये के रूप में एक रुपया ज्यादा किराया ले लिया था। आसाखेड़ा से डबवाली तक का उस समय का किराया 17 रूपये था, तो कंडक्टर ने 18 रूपए ले लिए थे जिसका यात्री ने विरोध भी किया।

विरोध करने के बाद कंडक्टर ने अभद्र व्यवहार किया तो इसकी शिकायत विभाग में कि गई जिसमे कंडक्टर को दोषी पाकर 1000 रुपये जुर्माना वसूला गया था।

लेकिन अब यात्री अपना रुपया ब्याज समेत वापस लेने के लिए ढाई साल से रोडवेज विभाग के अधिकारियों के चक्कर लगा रहा है।

अब सिरसा के जीएम विजय सिंह मलिक से यात्री अपना 1 रू. वापिस लेने पहुँचा तो जीएम ने कहा कि कंडक्टर ने एक रुपया ज्यादा ले लिया तो कौनसी बड़ी बात हो गई। जुर्माना तो वसूल लिया और क्या उसे फांसी तोड़ दूं या तू तोड़ दे।

यात्री ने कहा कि यह एक रुपए की नहीं, स्वाभिमान की बात है। तो जीएम ने एसबीआई से लोन दिलवाने की मांग रखी तो, पीड़ित ने कहा कि लोन दिलवा दूंगा आप पहले डिफाॅल्टर नहीं होने चाहिए।

इस पर उसने चिढ़ते हुए कहा कि मैं रोडवेज का जीएम हूं, तेरे जैसे नंग घणे देखें हैं और तूं मन्नै लोन दिवावेगा कै।

जीएम के हाथ पर चोट होने पर पीड़ित यात्री ने पूछा कि क्या हो गया तो जवाब मिला कि दो को तो पीटकर आया हूं, इसलिए तेरे को बुलाया है। सोचा कोई बड़ा आदमी होगा तो दो हाथ करूंगा।

इसके बाद क्लर्क से कहा कि इसकी दरख्वास्त फाइल कर दे। ये कुछ नहीं बिगाड़ सकता। देखता हूं कि ये कितना बड़ा है। जिस दिन ऐसे मांगने से रोडवेज एक रुपया वापस कर देगा। उस दिन तो मैं रोडवेज को ताला लगा दूंगा।

इसके बाद यात्री को ऑफिस से बाहर निकाल दिया गया। पीड़ित ने बस स्टैंड में ही स्थित पुलिस चौकी में शिकायत देकर जीएम पर कार्रवाई की मांग की।

हरियाणा में एक यात्री आजकल अपने स्वाभिमान के लिए रोडवेज के चक्कर लगा रहा है। अप्रैल 2015 में रोडवेज बस में एक यात्री ने आसाखेड़ा से डबवाली तक यात्रा की थी।

बस कंडक्टर ने यात्री से किराये के रूप में एक रुपया ज्यादा किराया ले लिया था। आसाखेड़ा से डबवाली तक का उस समय का किराया 17 रूपये था, तो कंडक्टर ने 18 रूपए ले लिए थे जिसका यात्री ने विरोध भी किया।

विरोध करने के बाद कंडक्टर ने अभद्र व्यवहार किया तो इसकी शिकायत विभाग में कि गई जिसमे कंडक्टर को दोषी पाकर 1000 रुपये जुर्माना वसूला गया था।

लेकिन अब यात्री अपना रुपया ब्याज समेत वापस लेने के लिए ढाई साल से रोडवेज विभाग के अधिकारियों के चक्कर लगा रहा है।

अब सिरसा के जीएम विजय सिंह मलिक से यात्री अपना 1 रू. वापिस लेने पहुँचा तो जीएम ने कहा कि कंडक्टर ने एक रुपया ज्यादा ले लिया तो कौनसी बड़ी बात हो गई। जुर्माना तो वसूल लिया और क्या उसे फांसी तोड़ दूं या तू तोड़ दे।

यात्री ने कहा कि यह एक रुपए की नहीं, स्वाभिमान की बात है। तो जीएम ने एसबीआई से लोन दिलवाने की मांग रखी तो, पीड़ित ने कहा कि लोन दिलवा दूंगा आप पहले डिफाॅल्टर नहीं होने चाहिए।

इस पर उसने चिढ़ते हुए कहा कि मैं रोडवेज का जीएम हूं, तेरे जैसे नंग घणे देखें हैं और तूं मन्नै लोन दिवावेगा कै।

जीएम के हाथ पर चोट होने पर पीड़ित यात्री ने पूछा कि क्या हो गया तो जवाब मिला कि दो को तो पीटकर आया हूं, इसलिए तेरे को बुलाया है। सोचा कोई बड़ा आदमी होगा तो दो हाथ करूंगा।

इसके बाद क्लर्क से कहा कि इसकी दरख्वास्त फाइल कर दे। ये कुछ नहीं बिगाड़ सकता। देखता हूं कि ये कितना बड़ा है। जिस दिन ऐसे मांगने से रोडवेज एक रुपया वापस कर देगा। उस दिन तो मैं रोडवेज को ताला लगा दूंगा।

इसके बाद यात्री को ऑफिस से बाहर निकाल दिया गया। पीड़ित ने बस स्टैंड में ही स्थित पुलिस चौकी में शिकायत देकर जीएम पर कार्रवाई की मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *