बच्ची के अपहरण-बलात्कार-हत्या के मामले में 10 महीने से पुलिस के हाथ खाली, 1 लाख का ईनाम घोषित

Breaking अनहोनी बड़ी ख़बरें हरियाणा
एक तरफ जहां देश में बच्चियों से दुराचार और हत्याओं के कई मामले चर्चा में हैं, वहीं हरियाणा की एक बेटी की आत्मा इसी तरह के मामले में 10 महीने से इन्साफ का इंतज़ार कर रही है और कहीं मीडिया में इसकी चर्चा भी नहीं है।
फतेहाबाद जिले के रतिया क्षेत्र में 10 महीने पहले एक बच्ची के अपहरण के बाद बलात्कार और हत्या के मामले में पुलिस अब तक कुछ नहीं लगा है और आखिरकार अब पुलिस ने आरोपियों के बारे में सूचना देने वाले के लिए 1 लाख रूपये के ईनाम की घोषणा की है। पुलिस इस मामले में ना तो यह तय कर पाई है कि वारदात को किसने अन्जाम दिया, ना ही जांच किसी और दिशा में बढ़ पाई है।
रतिया के कमाना गांव में दस महीने पहले 11 साल की एक बच्ची के पहले अपहरण, फिर दुष्कर्म और फिर हत्या करने के मामले में पुलिस पूरी तरह फेल साबित हुई है। पुलिस ने आरोपियों का पता बताने वालों को एक लाख रुपये देने की घोषणा भी कर रखी है  मगर फिर भी आरोपी पुलिस गिरफ्त से बाहर हैं। दस महीने बीतने के बाद भी पुलिस हाथ पर हाथ रखकर बेठी है।
इस मामले को लेकर शहर की शहीद भगत सिंह नौजवान सभा ने शहर में शनिवार रात कैंडल मार्च निकाला और सरकार के खिलाफ रोष जताया। प्रदर्शनकारियों ने मांग की है है कि पुलिस जल्द आरोपियों को गिरफ्तार करे नहीं तो वे जल्द बड़ा आंदोलन करेंगे और शहर के बाजार बन्द करवाएंगे। प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि देश मे मासूम बच्ची के साथ आये दिन दरिंदगी जैसी घटनाएं हो रही है और सरकार रोक लगाने में बिल्कुल फेल साबित हुई है।मासूम बच्ची का अपहरण होने के दो दिन बाद उसकी लाश गांव पास बने जंगल मे जोहड़ के किनारे अर्धनग्न अवस्था में मिली थी। मासूम के साथ हुई दरिंदगी के बाद लोग आज तक सहमे हुए है। इस मामले को लेकर सीआईए जिला पुलिस आज तक आरोपियों का खुलासा नही कर पाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *