Home Breaking महज 200 रुपये के लिए बुझा दिया इकलौता चिराग

महज 200 रुपये के लिए बुझा दिया इकलौता चिराग

0
0Shares

Yuva Haryana, Rohtak

दसवीं कक्षा एक छात्र ने महज 200 रुपए के लिए अपने दोस्त की हत्या कर दी। घटना रोहतक के सुनारिया कलां गांव की है। जहां 200 रुपये के लिए दोस्त ने घर में घुसकर 10वीं के छात्र रोहित को चाकू से गोद डाला। जहां ईलाज के दौरान पीजीआइ में उसकी मौत हो गई। रोहित (18) ने हाल ही में दसवीं की परीक्षा दी थी।

मृतक रोहित का दोस्त निकेतन रोहित के घर पर आया। उसने रोहित को आवाज लगाई। रोहित ने दरवाजा खोला तो दोनों के बीच बातचीत होने लगी। इसी दौरान निकेतन ने रोहित पर चाकू से ताबड़तोड़ वार कर दिए। जान बचाने के लिए रोहित घर में घुस गया, लेकिन आरोपित ने घर में भी कई वार किए और फरार हो गया। प्राथमिक जांच में सामने आया है कि रोहित ने निकेतन से 200 रुपये ले रखे थे, जिनके लिए दोनों ने फोन पर भी गाली-गलौज हो चुकी थी। पुलिस ने निकेतन को गिरफ्तार कर लिया है।

रोहित के पिता अशोक का कहना है कि बेटे को बड़े लाड-प्यार से पालकर बड़ा किया था, लेकिन क्या पता था कि दरवाजे पर दोस्त नहीं, बल्कि दोस्त के रूप में उनके बेटे का कातिल है। अगर जरा सा भी आभास होता तो दरवाजे पर बेटे को अकेला छोड़कर अंदर नहीं जाता। दोस्त बनकर आरोपित ने उनके इकलौते बेटे को मौत के घाट उतार दिया।

दरअसल, रोहित अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था। उसकी कोई बहन भी नहीं है। उसके पिता अशोक खेतीबाड़ी कर परिवार का पालन-पोषण करते हैं। मंगलवार शाम जब आरोपित ने आकर उनका दरवाजा खटखटाया तब रोहित, उसकी मां सुमन और पिता घर के अंदर बैठे थे।

रोहित दरवाजा खोलने के लिए आया, जिसके साथ में उसका पिता भी था। लेकिन जैसे ही दरवाजे पर रोहित के दोस्त को देखा तो वह अंदर चला गया। उसे लगा कि रोहित का दोस्त है जो किसी काम से आया होगा। उसके पिता के अंदर जाते ही आरोपित ने चाकू से हमला कर दिया।

आरोपित से बचने के लिए रोहित घर के अंदर की तरफ भागा, चिल्लाने की आवाज सुनकर रोहित का पिता उनकी तरफ दौड़ा, जिसके बाद आरोपित वहां से वापस भागा। उसके पिता ने आरोपित को पकडऩे के लिए गली में पीछा भी किया, लेकिन वह भागने में कामयाब हो गया। यह पूरा घटनाक्रम गली में एक मकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गया है। पुलिस ने कैमरे की डीवीआर अपने कब्जे में ले ली है। प्राथमिक जांच में यह भी सामने आया कि आरोपित के साथ रोहित की फोन पर भी कहासुनी हुई थी।

पोस्टमार्टम के बाद शाम के समय रोहित के शव का अंतिम संस्कार किया गया। जिसमें परिजनों के अलावा गांव के लोग शामिल हुए हैं। हालांकि अंतिम संस्कार के दौरान भी ग्रामीण एक-दूसरे से दूरी बनाकर ही खड़े हुए हैं।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

पंचकूला में मिले कोरोना के चार नए मरीज, देखिए 24 घंटों कितनी हुई बढ़ोतरी

Umang Sheoran, Yuva Haryana, Panchkula पंचकूला &…