सरकार के सामने हुआ 200 करोड़ का घोटाला, ठेकेदारों ने डकारे कर्मचारियों के PF और ESI

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana

Chandigarh

हरियाणा में कर्मचारियों के साथ हुए घोटाले की कह तरफ चर्चा है। कर्मचारियों के साथ ठेकेदारों और अधिकारियों ने आपस में मिलकर निकाय विभाग पिछले कुछ साल में 200 करोड़ रुपए ज्यादा का घोटाला किया है।

ठेकेदारों ने घोटाला भी कर्मियों के वेतन से ईपीएफ और ईएसआई के नाम पर काटे गए पैसे का किया है।, ठेकेदारों ने पैसा तो काट लिया पर इसे पीएफ खाते में जमा करवाने या ईएसआई कार्ड बनवाने आपस में ही मिल बांट कर खा गए।

हाल ही में कर्मचारियों और सरकार के बीच निकायों में ठेकाप्रथा खत्म करने को सहमत तो बनी थी, लेकिन यह फैसला फिलहाल चल रहे ठेकों की समयसीमा पूरा होने के बाद ही लागू होगा।

बता दें कि निकायों में ठेके पर लगभग 11 हजार कर्मचारी काम करते हैं। जिनमें ज्यादातर सफाई कर्मचारी हैं औऱ उनका मासिक वेतन 11 हजार 500 रुपए तय था। लेकिन उनकी तनख़्वा से 12 % पैसा ईपीएफ के नाम पर काटा जाता है।

निकाय विभाग 13.61 फीसदी राशि देता है। ईएसआई कार्ड के नाम पर 3.75 फीसदी राशि विभाग देता है और 1.75 फीसदी कर्मचारी के वेतन से काटी जाती है। इसके अलावा 14 से 18 फीसदी सर्विस टैक्स भी विभाग द्वारा ठेकेदार को मिलता है, 4 फीसदी सर्विस चार्ज अलग है।

लेकिन यह सारी कटौती तो हुई, लेकिन इसे जमा नहीं करवाया गया। पूर्व की हुड्डा सरकार में भी ऐसा फर्जीवाड़ा हुआ था। वहीं  सरकार ने कहा है कि ठेकेदारों को मई महीने का पैसा तभी जारी करें, जब वे ईपीएफ की राशि कर्मचारियों के खातों में जमा करवाएं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *