22000 आशा वर्कर्स गई हड़ताल पर, 4 दिन के बाद जेल भरो आंदोलन

Breaking हरियाणा

नैशनल हेल्थ मिशन में काम कर रही करीब 22 हजार आशा वर्करों अपनी सेवाएं नियमित कराने व 18 हजार रुपये न्यूनतम वेतन देने की मांग को लेकर शनिवार से 4 दिन की हड़ताल पर चली गई हैं।

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा व सीटू से संबंधित आशा वर्कर यूनियन की प्रदेश अध्यक्ष प्रवेश कुमारी व महासचिव सुरेखा ने दावा किया कि हड़ताल ऐतिहासिक है और करीब 22 हजार आंगनवाड़ी कार्यकर्ता हड़ताल पर हैं। उन्होंने सरकार को चेतावनी दी कि अगर 29 जनवरी तक बातचीत के द्वारा मांगों का समाधान नहीं हुआ तो 22 हजार आशा वर्कर जेल भरो आन्दोलन के तहत गिरफ्तारियां देंगी। साथ ही कहा कि 28 व 29 जनवरी को भी सरकार के मंत्री व विधायकों के आवासों पर प्रदर्शन किए जाएंगे।

आशा वर्कर्स ने आरोप लगाया कि सरकार आशा वर्करों की मांगों का बातचीत करने की बजाय सरकारी यूनियन के द्वारा एकता को तोड़ने की कोशिशें कर रही हैं। तो वहीं सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा व सीआईटीयू ने आशा वर्करों की हड़ताल और उनकी मांगों को समर्थन दे दिया है।

सीटू के प्रधान सतबीर सिंह व महासचिव जयभगवान ने बताया की केरल मे आशा वर्कर को 7500 रुपये, तेलंगाना में 6000 रुपये, दिल्ली व गुजरात मे 4500 व कर्नाटक मे 3500 रुपये फिक्स मानदेय दिया जा रहा है और हरियाणा मे केवल 1000 रुपये मानदेय दिया जा रहा है। जबकि प्रति व्यक्ति आय में हरियाणा इन राज्यों से कही आगे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *