23 साल पहले सीएम खट्टर की बचाई थी जान, आज मुख्यमंत्री पहुंचे खुद उनके घर

Breaking बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Ashok Grover, Yuva Haryana

Ratia

आज से करीब 23 साल पहले मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की एक शख्स ने कैसे चंबल की घाटी में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की जान बचाई थी। इसका खुलासा रतिया के कॉलेज में पीएन के पद पे तैनात कालूराम ओड़ के निवास पर जलपान कार्यक्रम में पहुंचे मुख्यमंत्री ने खुद किया।

‘कनेक्ट टू पीपल’ कार्यक्रम के तहत सूबे के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर शुक्रवार को रतिया में कालूराम ओड़ के निवास पर पहुंचे तो मुख्यमंत्री ने खुलासा किया कि 23 साल पहले डाकुओं के इलाके चंबल घाटी में सफर करते समय रतिया के एक युवक ने उनकी जान बचाई थी। उन्हीं की बदौलत वे आज जिंदा है  और सूबे के मुख्यमंत्री है।

मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने बताया कि उनकी जान बचाने वाला कोई और नहीं, बल्कि कालूराम ओड़ ही हैं जिन्होंने ट्रेन की खिड़की खोलकर उन्हें ट्रेन में अंदर खींच लिया था। मुख्यमंत्री ने बताया की  डाकुओं का एरिया था, रात का समय, पाँच किलोमीटर तक वे ट्रेन की बन्द खिड़की के बाहर लटके थे। अगर थोड़ी देर हो जाती तो वे शायद ही बचते।

उस समय कालूराम ने हिम्मत दिखाकर उन्हें बचाया था। मुख्यमंत्री ने बताया कि उस समय वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सगठन मंत्री थे और महाराष्ट्र से अधिवेशन कर कर लौट रहे थे

वही कालूराम ओड़ ने बताया कि वे भी अधिवेशन से लौट रहे थे। रात का समय था और मेरे साथ बैठे लोगों ने बताया कि ट्रेन की खिड़की पर कोई लटका हुआ है। मैंने खिड़की खोली ओर मनोहरलाल जी लगभग गिरने वाले थे। मैने पकड़कर हाथ खींचा जिससे इनकी जान बच गई।

मुख्यमंत्री के घर आने पर पूछे गए सवाल पर कालूंराम रो पड़े और कहने लगे की सुदामा के घर कृष्ण पहुंचे है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *