पूर्व मंत्री के दबाव में तीन अफसरों ने किया था फर्जीवाड़ा, अब तीनों को हुई जेल

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Suren Sawant, Yuva Haryana
Sirsa, 05 Feb, 2019

सिरसा ऑटो मार्केट के प्लॉट आवंटन के फर्जीवाड़े में अतिरिक्त सत्र न्यायालय ने सिरसा के पूर्व एसडीएम और नगर परिषद के पूर्व ईओ सहित तीन लोगोंं को तीन -तीन वर्ष के कारावास की सजा सुनाई है। तीनों को अर्थदंड भी लगाया है।

विजिलेंस जांच में इस पूरे फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ था। वर्ष 1995 में सिरसा ऑटो मार्केट का निर्माण हुआ था। उस समय करीब 448 प्लॉटों के आवंटन में फर्जीवाड़े के आरोप लगे थे। दरअसल पात्र लोगों की बजाए प्लॉटों का आवंटन चहेतों को कर दिया गया।

पूर्व मंत्री स्वर्गीय लक्ष्मण दास अरोड़ा के दबाव में यह प्लॉटों का आवंटन फर्जी तरीके से चहेतों के बीच में किया गया था। प्लॉटों के फर्जी आवंटन को लेकर जब शिकायतें हुई तो विजिलेंस ने जांच की। जांच में खुलासा हुआ कि किस प्रकार मनमर्जी करते हुए ऑटो मार्केट में प्लाटों का आवंटन किया गया।
विजिलेंस जांच में पूर्व मंत्री के दबाव में सिरसा के पूर्व एसडीएम और नगर परिषद के तत्कालीन प्रशासक बीबी कौशिक और नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी नेकी राम विश्नोई व एक लिपिक सतपाल चावला का नाम सामने आया था।
अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जरनैल सिंह की अदालत ने आज इस मामले में पूर्व एसडीएम बीबी कौशिक, पूर्व कार्यकारी अधिकारी नेकी राम विश्नोई व लिपिक सतपाल चावला को तीन- तीन वर्ष के कारावास की सजा सुनाई।
सहायक न्यायवादी पीआर शर्मा ने बताया कि दोषियों को अदालत ने फर्ज़ीवाड़े सहित अन्य आरोप सिद्ध होने पर सजा सुनाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *