रोडवेज विभाग के बाद अब रोडवेज कर्मचारी भी जाल बुनने में जुटे, 3100 कर्मचारी एक साथ छुट्टी पर गए

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Chandigarh, 01 Dec, 2018

हरियाणा रोडवेज में किलोमीटर स्कीम की विरोध के बाद से लगातार कर्मचारियों और विभाग के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है। यहां पर एक तरफ जहां कर्मचारियों ने बार-बार आंदोलन का रुख आख्तियार किया है वहीं अब 3100 कर्मचारियों ने एक साथ छुट्टी ले ली है जिससे परिवहन व्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हो रही है।

विभाग की तरफ से रोडवेज में ओवरटाइम सिस्टम को भी खत्म कर दिया गया है, जिसके बाद ड्यूटी पूरी होते ही कर्मचारी अपने अपने घरों को रवाना हो जाते हैं, हालांकि शुरुआती दौर में तो लंबे रुटों की बसों के संचालन में काफी दिक्कतें आ रही थी और आठ घंटे की शिफ्ट के बाद कर्मचारी अपने घरों को लौटने शुरु हो जाते हैं, लेकिन अब इसे 48 घंटे साप्ताहिक किया है जिसके बाद कुछ समाधान हुआ।

लेकिन अब विभाग के कर्मचारियों ने पिछले बकाया पड़े साप्ताहिक अवकाश एडजेस्ट करने शुरु कर दिया है और इस वक्त 1500 परिचालक और 1600 से ज्यादा ड्राइवर छुट्टी पर चले गए हैं। जिसकी वजह से रोडवेज डिपो से कम बसें ही निकल पा रही है और लोगों को काफी परेशानियों को सामना करना पड़ रहा है।

अवकाश पर जाने वालों में करीब 600 ऐसे कर्मचारी हैं, जिन्होंने लंबे समय से साप्ताहिक अवकाश नहीं लिया। दो-दो महीने अवकाश जो इकट्‌ठा थे, वह अब उन्होंने एक साथ ले लिए हैं। इसको देखते हुए निदेशालय ने सभी महाप्रबंधकों को लंबे अवकाश न देने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश में 6770 ड्राइवर और 5572 कंडक्टर हैं। यानि करीब 12600 कर्मचारियों में 3100 रेस्ट पर चल रहे हैं। वहीं हरियाणा रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी ने 5 दिसंबर को रोहतक में मीटिंग बुलाई है।

परिवहन विभाग ने अब ग्रामीण इलाकों की बसों के रात्रि ठहराव को भी बंद कर दिया है और बसों को अब रोडवेज डिपो में आकर ही रोकना होगा। जिससे कर्मचारियों में खासा रोष है। हालांकि विभाग को इस प्रकार के मौखिक आदेश प्राप्त हुए हैं जिसके बाद अब जरुरत वाली जगहों पर ही रात्रि ठहराव हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *