मोरनी गैंगरेप मामले में बड़ी कार्रवाई, दो चौकी इंचार्जों समेत 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड

Breaking Uncategorized अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष
Umang Sheoran, Yuva Haryana
Panchkula, 21 July, 2018
मोरनी गैंगरेप मामले में पुलिस विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए दो चौकी इंचार्जों समेत चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। इस मामले में पुलिस ने केस पंचकूला पुलिस को ट्रांसफर कर दिया है वहीं मामले की जांच आईपीएस अंशु सिंगला की बनाई गई एसआईटी कर रही है।
बता दें कि कल मीडिया के सामने आई पीड़िता ने आरोप लगाया था कि सन्नी नामक एक युवक उसे नौकरी दिलवाने के बहाने गेस्ट हाउस में लेकर गया था, और यहां पर उसके साथ करीब 40 अलग-अलग लोगों ने गैंगरेप किया। पीड़िता ने बताया कि उसे नशीला पदार्श दिया गया था।
पीड़िता ने खुलासा करते हुए बताया कि गैंगरेप करने वालों में कुछ खुद को पुलिसकर्मी बता रहे थे, इस मामले में डीसीपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि पीड़िता के बयानों के आधार पर पुलिसकर्मियों की भी जांच होगी।
मोरनी गैंगरेप मामले में पुलिस ने अब तक 3 लोगों को गिरफ्तार किया हुआ है, वहीं अन्य आरोपियों की पहचान की जा रही है जिसके बाद अन्य आरोपियों की भी जल्द ही गिरफ्तारी हो सकती है।
पुलिस इस मामले में अन्य जगहों पर लगी हुई सीसीटीवी भी खंगाल रही है, इसके अलावा साइबर सैल की टीम इस गैंगरेप कांड की गुत्थी सुलझाने में जुटी हुई है।
पीड़ित महिला ने पुलिस को दिए 164 के ब्यानों में बताया कि सन्नी उसके पति का जानकार था, तो वो अपने होटल पर मुझे साफ सफाई करने के लिए नौकरी के लिए ले गया था। मनीमाजरा से उसे ले जाया गया, जिस पर उसे 15 जुलाई को सन्नी लेकर गया, उस रात उसने खाने में कुछ नशीली दवाई को मिलाया। जिसके बाद 15, 16,17 तक पहले सन्नी और उसके बाद उसके दोस्तों ने बारी बारी से उसका शारीिरक शोषण किया। ब्यानों के अनुसार रोजाना उसके साथ 10 से 12 लोग उसका शारीरिक शोषण करते थे। 16 जुलाई को उसने अपने पति को इस बारें में बताने की कोशिश की, लेकिन सन्नी ने उसके मोबाईल को छीन लिया था। जिसके चलते 18 की रात को वो वहां से भाग आई और उसके बाद अपने पति को कॉल कर इस बारें में बताया था।
पीड़िता के पति ने बताया कि जब उसकी पत्नी की कॉल आई, तो वो उसे लेकर आया और उसके बाद सेक्टर 5 महिला पुलिस थानें में गए थे। जहां उसे मौके पर एक महिला एएसआई मिली, जिसे सारी बात के बारें में बताया तो उसने मोबाईल पर एक अधिकारी से बात की। जिसके बाद उसने कहा, कि तुम्हारा केस मनीमाजरा में हेंडल होगा। हमें यहां करीब 3 से 4घंटों तक इंतजार भी करवाया गया था, लेकिन एक कॉल के बाद हमें जाने के लिए बोल दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *