रेलवे विभाग में ठेका दिलवाने के नाम पर ठगे 47 लाख, इंजीनियर और उसकी पत्नी के खिलाफ केस दर्ज

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Hisar, 21 Nov, 2019

रेलवे विभाग में बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन और मैटेरियल का ठेका दिलवाने के नाम पर 47 लाख रुपये ठगने का मामला सामने आया है। इस मामले में रेलवे इंजीनियर अवधेश कुमार मिश्रा और उसकी पत्नी किरण मिश्रा के खिलाफ केस दर्ज करवाया गया है। हिसार मॉडल टाउन में रहने वाले रमन कुमार समेत तीन लोगों ने सिटी थाना में शिकायत दर्ज करवा इनके खिलाफ कार्रवाई करने की गुहार लगाई थी। पुलिस की पूछताछ में पीड़ित रमन कुमार ने बताया कि वह पेशे से जमींदार और ठेकेदार है। वहीं उसका ऑटो मार्केट में ऑफिस है। करीब 5-6 साल से विजय नगर में रहने वाले अवधेश कुमार मिश्रा से जान-पहचान थी। वह रेलवे विभाग में इंजीनियर है।

आपको बता दें कि बीते सितंबर माह में इंजीनियर अवधेश कुमार मिश्रा ऑफिस में आया था। उसने बताया था कि रेलवे विभाग में अच्छी जान-पहचान है। बीकानेर व अंबाला डिवीजन के नॉर्दन रेलवे विभाग ने बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन और मैटेरियल के लिए कई करोड़ रुपयों का ठेका देना है। यह ठेका आपको दिलवा सकता हूं। इन सभी ठेकों को दिलवाने के लिए रेलवे विभाग में रजिस्ट्रेशन, सिक्योरिटी व अन्य कागजी कामों सहित काफी खर्चें होने हैं, जिसके लिए करीब 50 लाख रुपये देने होगें। 6 महीने के अंदर ठेका का काम पूरा करने पर मुनाफा भी अधिक होगा। साथ ही भविष्य में भी तुम्हें काम मिलता रहेगा। जिसके चलते रमन कुमार  अवधेश कुमार मिश्रा के झांसे में आकर उसको 2 अक्टूबर से 10 अक्टूबर तक 49 लाख रुपये दे दिए। इसमें चार लाख रुपये का एक चैक भी शामिल है। इसके बाद मोबाईल पर रेलवे विभाग में बतौर कांट्रेक्टर रजिस्ट्रेशन होने और 6 लाख 79 हजार 316 रुपये और 7 लाख 50 हजार रुपये खातों में जमा करवाने संबंधित मैसेज आए। 20 अक्टूबर 2019 को अवधेश कुमार ने कांट्रेक्ट संबंधित उत्तर रेलवे द्वारा जारी स्वीकृति पत्र/करारनामा दस्तावेज दिए थे। उन दस्तावेज पर अधिकारियों के हस्ताक्षर व मोहर लगी थी। उसने कहा था कि बीकानेर से बाईहैंड करारनामा लाया हूं। आपका रेलवे विभाग से करार हो चुका है। अब ठेके का काम अलॉट हो गया है। इसकी अंतरिम राशि रेलवे ने पहले ही आपके खाता में जमा करवा दी है।

रमन कुमार ने बताया कि मुझे इंजीनियर अवधेश कुमार द्वारा दिए करारनामा पर कुछ शक हुआ था। बैंक खाता की जांच करने पर कोई अंतरिम राशि जमा नहीं मिली। रेलवे विभाग द्वारा ठेका संबंधित कोई करारनामा भी जारी नहीं किया था। हस्ताक्षर, मोहर फर्जी थे। आरोपी अवधेश कुमार ने अपनी पत्नी किरण के सहयोग से फर्जीवाड़ा करके लाखों रुपये ठग लिए। मोबाइल पर आए मैसेज भी फर्जी मिले, जोकि खुद आरोपी दंपति द्वारा बनाकर भेजे थे। जब दंपति का विरोध किया तो उन्होंने गलती को स्वीकार कर लिया। पीड़ित पंकज के खाते में एक लाख रुपये जमा करवाए थे, और एक लाख रुपये नकद दिए थे। पीड़ित राजेश कुमार और मेरे नाम का 25-25 लाख रुपये का चेक दिया था। जब दोनों चैक बैंक में लगाए तो बाउंस हो गए थे। इसी तरह के चैक पंकज को दिए थे। उनके खातों में रुपये नहीं होने पर चैक बाउंस हो गए थे। दंपति काफी समय तक रुपये देने का झांसा देते रहें। इन्होंने धमकी दी कि हम दरभंगा बिहार के रहने वाले हैं। एक दिन में ही आदमियों को उठवा देते हैं, यदि तुमने दोबारा पैसे मांगे तो तुम्हें जान से मरवा देंगे। आरोपी दंपति ने 47 लाख रुपये ठग लिए। वहीं पुलिस ने शिकायत के आधार पर दंपति के खिलाफ धारा 420, 406, 467, 468, 471, 120बी के तहत केस दर्ज कर लिया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *