बहू की हत्या के मामले में सास और पति को 7 साल की सजा

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Chandigarh/Panipat, 7 July, 2019

हरियाणा में दहेज प्रथा एक समय में इतनी मशहूर थी कि इसके आगे ससुराल वाले बहू की जान लेना भी बढ़ी बात नहीं समझते थे। पैसों के लिए या फिर दहेज के लिए बहू को प्रताड़ित करना जैसे आम बात थी। लेकिन समय बदला और लोगों की सोच में भी फर्क आया। पढ़ाई- लिखाई से लोग बदले और दहेज के खिलाफ हुए। वहीं आज भी कुछ लोग ऐसे हैं, जो अच्छे पढ़े- लिखे होने के बावजूद भी दहेज को ही अधिक महत्त्वता देते हैं।

ऐसे ही एक मामले में पानीपत में एक विवाहिता ने दहेज प्रताड़ना से परेशान होकर सुसाइड किया था। कोर्ट में सुनवाई हुई, कार्यवाही करते हुए अब कोर्ट ने आरोपित सास और मृतिका के पति को दोषी पाते हुए 7 साल कारावस की सजा सुनाई है। साथ ही दोनों पर 5-5 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माना नहीं देने पर एक- एक साल अतिरिक्त सजा होगी।

ये फैसला अतिरिक्त जिला एवं संत्र न्यायधीश हरबीर सिंह दहिया ने सुनाया है। इस सजा के बाद से उन लोगों को भी एक मैसेज जाएगा, जो अपनी बहू को दहेज या फिर पैसों के लिए प्रताड़ित करते हैं।

क्या था पूरा मामला –

गुरुग्राम निवासी कृष्ण वर्मा ने मॉडल टाउन थाने में शिकायत दी थी कि उसकी 28 वर्षीय बहन रेनू के साथ ससुरालिए दहेज कम लाने को लेकर मारपीट करते थे। कई बार दहेज की मांग पूरी की, लेकिन बार- बार उसे परेशान किया करते थे। रेनू की शादी 7 फरवरी 2013 में हुई थी।

भाई ने बताया कि 2017 में भैया दूज वाले दिन वह बहन से मिला था, तब उसने सारी घटना बताई थी। इसके कुछ दिन बाद ही सास का उनके पास फोन आया था और कहा था कि सीढ़ियों से गिरने के कारण बहन रेनू की मौत हो गई है।

इसके बाद कृष्ण ने पति, सास समेत 7 लोगों के खिलाफ हत्या करने का केस दर्ज करवाया था। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सभी आरोपियों को हिरासत में लिया था। बाद में पति और सास को दोषी पाते हुए गिरफ्तार किया गया, वहीं बाकी सब निर्दोश पाए गए थे।

अब कोर्ट ने दोनों को 7 साल की सजा सुनाई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *