Home Breaking 9 मिनट बिजली बंद करने के बाद ,10वां मिनट होगा चुनौतीपूर्ण, जानें वजह

9 मिनट बिजली बंद करने के बाद ,10वां मिनट होगा चुनौतीपूर्ण, जानें वजह

0
0Shares

Yuva Haryana, Chandigarh

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से एक अपील की है। अपील यो है कि 5 अप्रैल रविवार को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों की लाइट बंद करके, घर के दरवाजे पर मोमबत्ती, दिया या फ्लैश लाइट जलाएं। उन्होंने कहा कि इस रविवार को हमें संदेश देना है कि हम सभी एक हैं।

अब पीएम मोदी की इस अपील ने बिजली कंपनियों के सामने संकट खड़ा कर दिया है। अगर 130 करोड़ देशवासी एक साथ बिजली बंद कर देते हैं और नौ मिनट बाद एक साथ चालू करते हैं तो देश में ब्लैकआउट होने का खतरा पैदा हो सकता है। हालांकि, बिजली कंपनियों ने पीएम मोदी के नौ मिनट के चैलेंज के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं।

लेकिन 10वां मिनट चुनौतीपूर्ण होगा। इंडस्ट्री में एग्जिक्यूटिव्स को उम्मीद है कि उतार-चढ़ाव कुल बिजली की जरूरत का लगभग 9-10 प्रतिशत होगा। एक कार्यकारी ने कहा कि यह बहुत अधिक नहीं है। एक ही समय में बिजली की आपूर्ति को समायोजित करना आसान नहीं होगा। यह एक चुनौती है। विशेष रूप से 10वां मिनट चुनौतीपूर्ण हो सकता है, जब हर कोई संभवत: फिर से घर की बिजली चालू करेगा। क्या बिजली मांग में अचानक उछाल से आपूर्ति पूरी हो पाएगी यह देखना काफी दिल्चस्प होगा।

आपको बता दें कि हमारे घर तक बिजली तीन तरीकों से पहुंचती है। पहला पॉवर जनरेटर्स जैसे टाटा पावर और एनटीपीसी, दूसरा प्रत्येक राज्य की वितरण कंपनियां और तीसरा राज्य भार प्रेषण केंद्र या एसएलडीसी, जो बिजली की मांग के साथ आपूर्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

एसएलडीसी प्रत्येक राज्य में ब्लॉक के लिए मांग और आपूर्ति का शेड्यूल तैयार करता है। अगर पीएम मोदी पूरे 15 मिनट के लिए बिजली बंद करने की अपील करते तो 15 मिनट का एक ब्लॉक बंद कर दिया जाता, लेकिन यह नौ मिनट चुनौती बनकर सामने आई हैं। वहीं, इंफ्रास्ट्रक्चर नियामक के विशेषज्ञता वाले वकील सितेश मुखर्जी ने कहा कि यह एक उच्च स्वचालित और वैज्ञानिक प्रक्रिया है।

उन्होंने कहा कि एसएलडीसी की बहुत महत्तवपूर्ण भूमिका है। यह सुनिश्चित करना है कि पावर ग्रिड लाइनों में चलने वाली बिजली की आवृत्ति 48.5 और 51.5 हर्ट्ज के बीच होनी चाहिए। अगर यह बहुत अधिक हो जाता है (जब आपूर्ति बहुत अधिक होती है) या बहुत कम (जब मांग हद से ज्यादा हो जाती है), तो लाइनें कट सकती हैं जिससे देशभर में बिजली संकट मंडरा सकता है। 2012 में दुनिया का सबसे बड़ा ब्लैकआउट कुछ ऐसे ही हुआ था जब अचानक मांग बढ़ने से ट्रिपिंग हुई और लगभग 60 करोड़ भारतीयों के घरों की बिजली चली गई थी।

पांच अप्रैल को अगर सभी भारतीय एक साथ रात नौ बजे बिजली बंद कर देते हैं तो बिजली सप्लाई कट सकती है और देशभर में अंधेरा हो सकता है। लेकिन, इस क्षेत्र के वरिष्ठ इंजीनियरों का कहना है कि इसे संभाला जा सकता है क्योंकि उनके पास योजना बनाने का समय है। भारत को विभिन्न स्रोतों से बिजली मिलती है जैसे थर्मल, हाइडल, गैस, पवन और सौर।

एक इंजीनियर ने कहा, सौर रात में उत्पन्न नहीं होता। हवा निरंतर है और इसे रोका नहीं जा सकता। लेकिन हाइडल और गैस संयंत्र को पूरी तरह से बंद करना संभव है। और एक हाइडल या गैस प्लांट को फिर से शुरू करना कोई मुश्किल कार्य नहीं है। लेकिन थर्मल प्लांट के साथ ऐसा नहीं है। एक थर्मल प्लांट को फिर से चालू करने में घंटों लग सकते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि लंबे समय तक के लिए बिजली गुल हो सकती है।

वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि पीएम मोदी के एलान के बाद हितधारकों, बिजली जनरेटर, डीआईएससीओएम और एसएलडीसी ने रविवार के लिए योजना बनानी शुरू कर दी है। बिजली उद्योग के अधिकारियों के अनुसार, उन नौ मिनटों की योजना के लिए उनके पास दो दिन का समय है। यह एक चुनौती है, और कुछ अभूतपूर्व है। लेकिन यह संभव है। नौ मिनट की चुनौती को स्पष्ट रूप से समझने के लिए यह जानना जरूरी है कि बिजली क्षेत्र कैसे कार्य करता है।

यह है नौ मिनट चैलेंज नौ मिनट एक चुनौती है क्योंकि नौ मिनट किसी भी 15 मिनट के ब्लॉक में नहीं आते और सिस्टम को इतने कम समय के लिए फिर से कॉन्फिगर नहीं किया जा सकता है। एक इंजीनियर ने कहा कि कुछ लोग पंखे या एयर कंडीशनर को बंद नहीं करेंगे। स्ट्रीट लाइट और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर लाइटें जलती रहेंगी। इसके अलावा, कुछ प्रतिशत लोग ऐसे भी होंगे जो स्विच ऑफ करना भूल जाएंगे।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

करोड़ों भारतीयों को यात्रा कराने वाली एटलस साईकिल का सफर हुआ खत्म, अंतिम फैक्ट्री भी बंद

Yuva Haryana, Chandigarh हरियाणा के …