शिक्षा की सबसे भयकंर स्थिती, जहां स्कूल में एक छात्र और एक ही शिक्षक

Breaking बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

Devender Singh, Yuva Haryana

Kosli

शिक्षा के महत्व को ध्यान में रखते हुए सरकार के द्वारा 5 साल से 25 साल तक की उम्र तक के सभी बच्चों के लिए शिक्षा को अनिवार्य कर दिया गया है। लेकिन पिछड़े क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए आज भी अच्छी शिक्षा के उचित लाभ प्राप्त नहीं हो रहे हैं।

यह मामला है  राजकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय लूखी का है जहां पढ़ने वाले बच्चों के भविष्य का अगर अंदाजा लगाया जाये तो यह स्थिति भयंकर नजर आती है, क्योंकि राजकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय लूखी में बच्चों की संख्या के नाम पर पूरे विद्यालय में केवल ही एक बच्चा है और अध्यापकों की संख्या के नाम पर केवल एक अध्यापक है।

जहाँ एक ओर सरकार शिक्षा नीति बनाते समय इतना ध्यान रखती है वहीं ऐसी स्थिति की कल्पना ही डराने के लिए काफी है। बता दें कि 2016 में इस विद्यालय में 22 बच्चे थे। 2014-15 में संख्या घटकर 12 रह गई थी। 2016-17 में बच्चों की संख्या दो-दो रही जो अब यानि 2018 में विद्यालय में एक ही छात्रा है जो सातवीं कक्षा में पढ़ती है। वहीं उसे पढ़ाने के लिए एक ही शिक्षक दयाकिशन है जो सामाजिक और अंग्रेजी के शिक्षक हैं।

इस विद्यालय से महज आधा किलोमीटर की दूरी पर राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय है जिसमें 22 विद्यालर्थी शिक्षा लेने पहुंचते हैं और स्टॉफ भी पूरा है। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि तबादला नीति में क्या इस बात का ध्यान नहीं रखा जाता कि विद्यालय में स्टॉफ है या नहीं।

वहीं इस बारे में जिला शिक्षा अधिकारी सुरेश गौरिया से पूछा गया तो उन्होंने अपना पल्ला झाड़ते हुए अपने जवाब में कहा कि कल देखते हैं। जबकि ब्लॉक शिक्षा अधिकारी जवान सिंह ने स्थिति को और स्पष्ट करते हुए बताया कि राजकीय माध्यमिक विद्यालय जाहिदपुर की स्थिति भी ऐसी हैं क्योंकि इस सत्र में अब तक एक भी बच्चे का दाखिला नहीं हुआ। जबकि विद्यालय में एक मुख्याध्यापक वहाँ आज भी कार्यरत है।

उन्होंने कहा कि सब कुछ पोर्टल पर मौजूद रहता है और विभाग को हर स्थिति की पूरी जानकारी होती हैं अतः अब विभागीय कार्यवाही की प्रतीक्षा करना ही उचित होगा। अब सवाल यह ही उठता है कि शिक्षा विभाग ऐसी ऐस्थितियों से निपटने के लिए किस प्रकार की तैयारी में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *