‘ सरकार के खिलाफ हरियाणा हुआ बंद, नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दें मुख्यमंत्री ‘ – अभय सिंह चौटाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 8 Sep, 2018

इनेलो के आह्वान पर प्रदेश के व्यापारी वर्ग और सभी वाणिज्य संस्थाओं द्वारा किए गए सफल शांतिपूर्ण बंद के बाद नेता विपक्ष अभय सिंह चौटाला ने प्रेसवार्ता के दौरान मांग की कि मुख्यमंत्री नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दें। उन्होंने कहा कि अगर वह ऐसा नहीं करते, तो महामहिम राज्यपाल को सरकार बर्खास्त कर देनी चाहिए, क्योंकि प्रदेश सरकार जनता के बीच अपनी विश्वसनीयता खो चुकी है और बंद ने इस बात पर भी मोहर लगा दी है कि भाजपा सरकार ने जनता की अनदेखी की जिस कारण उसे सत्ता में बने रहने का कोई हक नहीं।

एसवाईएल, दादूपुर-नलवी, मेवात कैनाल, नशाखोरी, जीएसटी, ई-टेड्रिंग व कानून व्यवस्था जैसे मुद्दों पर व्यापारी वर्ग ने प्रदेश बंद कर सरकार के खिलाफ रोष प्रकट किया। शांतिपूर्वक सफल बंद के आयोजन पर नेता विपक्ष ने प्रदेश की जनता व व्यापारी वर्ग को बधाई दी और अभार व्यक्त करने के साथ ही यह घोषणा भी की कि इनेलो- बसपा गठबंधन के सत्ता में आने पर राज्य व्यापार आयोग बनाएगी। जिसके सभी सदस्य व्यापारी वर्ग से ही होंगे और सरकार उनकी सिफारिशों पर प्रदेश में व्यापार से जुड़े फैसले लेगी।

एसवाईएल मुद्दे पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला और कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के बयानों की निंदा करते हुए नेता विपक्ष ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा आपस में मिले हुए हैं, दोनों ने हमेशा नहर निर्माण में रोड़ा अटकाने का काम किया है।

अगर भाजपा सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करवा एसवाईएल नहर का निर्माण करवाती है, तो इनेलो नहर निर्माण का पूरा श्रेय भाजपा को देगी। उन्होंने यह भी कहा कि विपक्ष होने के नाते इनेलो सरकार को कई बार समझा चुकी है कि एसवाईएल हरियाणा की जीवन रेखा है, लेकिन सरकार न्याय दिलाने की बजाए खिलवाड़ कर रही है।

इसलिए इनेलो विधासभा में नहर निर्माण को लेकर ‘काम रोको प्रस्ताव’ पेश करेगी। विधानसभा सत्र में सरकार की ओर से कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला, तो 25 सितम्बर की रैली में सरकार के विरोध रणनीति की घोषणा की जाएगी।

प्रेसवार्ता के बाद ग्रामीण सफाई कर्मचारी यूनियन हरियाणा और हरियाणा चार्टेड एसोसिएशन ऑफ फिजियोथेरेपिस्ट ने भी अपनी मांगों को लेकर नेता विपक्ष को ज्ञापन सौंपा। सफाई कर्मचारी यूनियन ने सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया।  इनेलो वरिष्ठ नेता से अपील की कि ग्रामीण सफाई कर्मचारियों के लिए आयोग के चैयरमेन द्वारा की गई घोषणाओं को लागू करवाए और उनकी लंबित मांगों का भी समाधान हो।

वहीं फिजियोथेरेपिस्ट ने राज्य में स्वतंत्र फिजियोथेरेपिस्ट काउंसिल की मांग की। उनका तर्क है कि डब्लूएचओ के अनुसार फिजियोथेरेपिस्ट एक स्वतंत्र पेशेवर समूह है, जिसके आधार पर उनके लिए अलग काउंसिल का गठन किया जाना चाहिए।

नेता विपक्ष ने उन्हें आश्वस्त दिया कि वह उनकी मांगें विधानसभा में रखेंगे और सरकार पर उनकी मांगों को पूरा करने के लिए दबाव भी बनाएंगे। इस मौके पर आरएस चौधरी, एमएस मलिक, बीडी डालिया और प्रदेश प्रवक्ता प्रवीन अत्रे भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *