भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बयानों पर अभय चौटाला का पलटवार, पढ़िए क्या कहा चौटाला ने-

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 6 May, 2019

समाचार पत्रों में प्रमुखता से छपे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के उस बयान की इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला द्वारा कड़े शब्दों में निंदा की गई है, जिसमें शाह ने कहा था कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के शासनकाल में राज्य में अराजकता और गुण्डागर्दी थी। उन्होंने याद दिलाया कि अगर उस काल में गुण्डागर्दी व्याप्त थी, तो उसका दायित्व भाजपा पर भी है क्योंकि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की सरकार का गठन 1999 में भाजपा के समर्थन के साथ हुआ था।

अभय सिंह चौटाला ने यह भी याद दिलाया कि भाजपा का 1999 के लोकसभा में भी इनेलो के साथ गठबंधन था, जिस कारण बड़ी संख्या में भाजपा को हरियाणा से लोकसभा में प्रतिनिधित्व मिला था। उसके पश्चात वर्ष 2000 में हरियाणा के विधानसभा चुनाव के दौरान भी भाजपा का इनेलो के साथ गठबंधन था और उसी काल के दौरान चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने विधानसभा की पूरी अवधि के दौरान शासन किया था।

उन्होंने उस शासन की पृष्ठभूमि में जाते हुए याद दिलाया कि 1996 के विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा का स्वर्गीय चौधरी बंसीलाल की हरियाणा विकास पार्टी के साथ गठबंधन था और वे बहुमत से सरकार बनाने में सफल हुए थे। परंतु उस शासनकाल की सच्चाई यह है कि जहां तक अपराध और अराजकता का प्रश्न है, तो वह काल हरियाणा के इतिहास में एक काला अध्याय था।

भाजपा और हरियाणा विकास पार्टी के संयुक्त नेतृत्व में राज्य के स्कूली बच्चे स्कूलों में जाने के बजाय शराब की तस्करी को अपना जीवन का लक्ष्य बना चुके थे। इन बच्चों के बस्तों में किताबें कम और शराब की बोतलें उस नशाबंदी के काल में सामान्य बात हो गई थी। वास्तविकता तो यह है कि भाजपा और हरियाणा विकास पार्टी के संयुक्त संरक्षण एवं निर्देशन में शराब तस्करी एक घरेलू उद्योग था और समूचे राज्य में अपराधियों का बोलबाला था।

अभय सिंह चौटाला ने कहा कि अमित शाह को अनर्गल आरोप लगाने से पहले अपने गिरेबां में झांक लेना चाहिए था क्योंकि उन्हीं की पार्टी वर्ष 1996 से लेकर 1999 तक माफिया राज से लाभ प्राप्त करती रही है।

लोकिन जब इस माफिया राज के नकारात्मक परिणामों से हरियाणा की जनता ने त्राहि-त्राहि कर दी तब बेबस होकर और अपने आपको सार्थक बनाए रखने के लिए भाजपा ने चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की शरण में जाकर उन्हें सत्ता संभालने के लिए मनाया। चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने किस प्रकार अपने चुस्त, अनुशासित एवं कठोर शासन से अपराधी और माफिया पर लगाम कसी व राज्य को पुन: प्रगति के मार्ग की ओर ले गए, यह इतिहास की बात है। लेकिन चौधरी ओमप्रकाश चौटाला यह जानते थे कि 1996 और 1999 के दौरान जिस माफिया राज का दबदबा हरियाणा राज्य में था, उसमें भाजपा की भी भागीदारी थी, इसलिए उन्होंने वर्ष 2000 में मध्यावधि चुनाव करवाए थे।

राज्य में सामान्य स्थिति लाने का श्रेय चौधरी ओमप्रकाश चौटाला को जाता है, लेकिन भाजपा की विशेषता यह है कि वह झूठ और तथ्यों को तोड़मरोड़ कर इतिहास बनाने की महारत हासिल कर चुकी है। इसलिए कोई आश्चर्य नहीं कि इस चुनाव के मौसम में अमित शाह ने भी अपने उसी झूठ के पिटारे से एक नया झूठ प्रस्तुत किया है।

अभय सिंह चौटाला ने अमित शाह के उस बयान का भी खण्डन किया कि भाजपा का शासन भ्रष्टाचारमुक्त है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार का भ्रष्टाचार का मामला एसोसिएटड जनरल लिमिटेड के विरुद्ध पंचकुला की सीबीआई की अदालत में दर्ज किया गया है, उसी प्रकार के भ्रष्टाचार के आरोप खट्टर सरकार पर भी लगते हैं।

गुरुग्राम में एक दस एकड़ का प्लॉट अस्पताल के लिए सुरक्षित था और उसे एक व्यक्ति को अलॉट भी कर दिया गया था। लेकिन रकम अदा न कर पाने की स्थिति में उसे सरकार ने रिज्यूम भी कर दिया था। पर अब इतने सालों के बीच जाने के बाद उसी प्लॉट को पुन: उसी व्यक्ति को पुरानी दरों पर अलॉट किया गया है जिससे राज्य सरकार को 1500 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है।

अभय सिंह चौटाला ने यह भी कहा कि अमित शाह राष्ट्रीय राजनीति में नए हैं और देश को पूरी तरह जानते भी नहीं, इसलिए शायद वह यह नहीं जानते कि अरावली पर्वत श्रृंखला वन से ढकी है। यह इस क्षेत्र के पर्यावरण के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, लेकिन इसकी अनदेखी करते हुए खट्टर सरकार ने इन वनों को वनों की परिभाषा से बाहर कर उन्हें बिल्डरों और प्रापर्टी डीलरों को सौंपने का निर्णय किया है।

यह उसी प्रकार का भ्रष्टाचार है जिस प्रकार के आरोप उनसे पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर लगाए गए हैं। इसके अतिरिक्त भाजपा के मुख्यमंत्री खट्टर उन गिने-चुने लोगों में हैं जिनके भ्रष्टाचार में शामिल होने का संकेत भी सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दादम खनन घोटाले में दिया जा चुका है। भाजपा न केवल समाज को विभाजित वाली शक्ति है, बल्कि यह भ्रष्टाचार में भी उतनी ही डूबी हुई है जितनी कांग्रेस थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *