पहले भी अजय के घर ही खाता था खाना, अब भी वहीं खाऊंगा जब तक वह खुद मना नहीं करते- अभय चौटाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana

Chandigarh, 17 Nov, 2018

चंडीगढ़ में अभय चौटाला आज बैठक के दौरान भावुक नजर आए और उन्होने अपनी भाभी की तरफ से उनको गुंडा कहने पर पलटवार किया। उन्होने कहा कि वो पिछले 32 सालों से अपनी भाभी के साथ एक ही परिवार में रह रहे हैं, इतने सालों में अगर में गुंडा था तो किसी ने मुझे छोड़ा क्यों नहीं ।

इस दौरान अभय सिंह चौटाला ने फिर दोहराते हुए कहा कि दुष्यंत और दिग्विजय दोनों परिवार के बच्चे हैं और उनको इस प्रकार की हरकत के लिए माफी मांगी चाहिये था ना कि पार्टी को तोड़ने का काम करना चाहिए था।

अभय सिंह चौटाला ने बताया कि हमने तो 7 अक्टूबर को जब देवीलाल का जन्म दिन मनाया था, उस दिन चौटाला साब को विश्वास दिलाने आये थे। लोकसभा की सारी सीट लेकर देंगे और 1987 का इतिहास दोहराकर हम बीएसपी के साथ सरकार बनाएंगे।

पार्टी का नारा लगाने वाले खराब करते हैं। 5 को कैथल रैली में मेरे खिलाफ हूटिंग हुई थी। पार्टी के सच्चे सिपाही ऐसे नहीं करते, ये भाड़े के टूट है। उन्होंने 24 की लड़ाई की बात की है। सारे विधायक गवाह है, रात मेरे पास एक बिचोलिये का फोन आया था।

मैंने हमेशा सुलह की कोशिश की थी। जिन्होंने ओमप्रकाश चौटाला को अपमानित किया, आज वो यहां आकर एक बात कहते, जो 7 तारीख को हुआ उस पर खेद प्रकट करते। हम सारे प्रस्ताव पारित करते। वहां झंडे ओर डडे की बात होती है।

हमने चस्मा हाथी को लगा रखा है। हमने चस्मा उस ताकत को लगा रखा है उस ताकत का एहसास उनको भी नहीं है।

जिस पार्टी का चुनाव निशान हाथी हो, जिस पार्टी की मुखिया मायावती हो, जिस पार्टी को देवीलाल ने बनाई हो। उनको सत्ता में आने से कोई नहीं रोक सकता। हमने हाथी को चशमा लगा दिया है ओर अब ये हाथी सबको रोंद्ता जाएगा।

डबवाली में वो जमानत भी नहीं बचा पाएंगे। परमात्मा उनको सद्बुद्धि दे। नैना चौटाला इस्तीफा दें। मुझे तलवार निकलने की जरूरत नहीं है।जिन्होंने कल जमाल में कार्यक्रम किया आज वो सारे आयोजक यहां पहुंचे हैं।

मैं अगर गुंडा था तो मेरे साथ 32 साल कैसे रहे। सिरसा में हमारे दोनों भाइयों के घर अलग अलग हैं। आज भी मैं उनके घर का खाना खाता हूं। सिरसा में अजय सिंह के घर का खाना मंगवाकर खाता हूं। जब तक तो मना नहीं करेंगे, तब तक उनके घर का खाना खाऊंगा।

फेसबुक के तो फ्यूज उड़ जाएंगे। मेरे बारे में इस्तीफा देने की बात चल रही थी, लेकिन में इस्तीफा नहीं दे रहा। मेरी अजय सिंह चौटाला से मुलाकात हुई थी। मैंने सब कुछ आपको दिया। मैंने उनको कहा था आप राष्ट्रीय महासचिव, भाभी विधायक, तुम दुष्यंत चौटाला का नाम आगे करो में सब कुछ छोड़ दूंगा।

इनेलो का कार्यकर्ता खुद को मजबूत रखे। हमे फिर से सरकार बनाई है। अगर चौटाला साब किसी हालात में सीएम नहीं बने तो में खुद कहूंगा मुझे सीएम नहीं बनना। किसी सीनियर साथी को मुख्यमंत्री बनाने का काम करेंगे। कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए अभय ने कहा है कि- पार्टी को मजबूत करो।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *