BSP अगर दोबारा गठबंधन के लिए हाथ बढ़ाए, तो जरूर आगे आएंगे- अभय चौटाला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 15 June, 2019

इनेलो नेता अभय चौटाला ने चंडीगढ़ में प्रैस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि इनेलो की 15 से 20 जून तक बैठके होंगी। उन्होंने बताया कि संगठन स्तर की बैठकों का आयोजन किया जाएगा। वहीं, 1 जुलाई से प्रदेशभर में बैठक की जाएंगी।

पर्ची और खर्ची के बयान पर बोलते हुए अभय ने सवाल किया कि ‘सीएम बताएं, कौनसे राज में चलती थी ? ‘मामले की जांच क्यों नहीं करवाते सीएम ?

बीएसपी से समझौते पर भी अभय चौटाला ने कहा कि ‘अगर वो हाथ बढ़ाएंगे, तो जरुर आगे आएंगे’। इस के साथ ही अभया ने कहा िक घोषणापत्र में सब जनता के मुद्दे होंगे।

अभय चौटाला ने कहा कि प्रदेश में देखा गया कि लोगों ने बीजेपी का विरोध किया और सरकार का विरोध किया, लेकिन बीजेपी के नेताओं ने पीएम मोदी के नाम पर ही वोट मांगा क्योंकि बीजेपी ने 4.5 सालो में कोई काम नहीं किया।

उन्होंने कहा कि 2009 में बीजेपी और इनेलो में समझौता था, जिसमें 9 सीटे जीती थी। आज फिर वही हालात प्रदेश में पैदा हो रहे हैं क्योंकि लोगों को इनेलो ही विकल्प नजर आ रहा है। अभय ने कांग्रेस पर भी तंज कसते हुए कहा कि आज कांग्रेस में एक दूसरे की टांग खींच रहे हैं।

आने वाले विधानसभा चुनावों में सीएम का चेहरा कौन होगा इसपर अभय चौटाला ने कहा कि विधानसभा चुनावों में जीते हुए विधायक तय करेंगे कि कौन मुख्यमंत्री का चेहरा होगा और ये सब सीनियर इनेलो नेता तय करेंगे। विधायकों को मुख्यमंत्री बनने की इच्छा हो रही है, इसलिए बीजेपी में शामिल हो रहे हैं।

चौटाला ने कहा कि हमारा वोट बैंक बीजेपी में शामिल हुआ है। जेजेपी पर तंज कसते हुए अभय ने कहा कि जेजेपी बनने से इनेलो को कोई फर्क नहीं पड़ा, हमारा कार्यकर्ता अभी भी मजबूत खड़ा है।

अभय चौटाला ने कहा कि दिग्विजय चौटाला क्या कह रहे हैं, उससे हमारा कोई सरोकार नहीं हैं। लोगों मे भ्रम पैदा करने के लिए मुख्यमंत्री ऐसे बयान दे रहे हैं कि पर्ची और खर्ची बन्द हो गई है, लेकिन भरष्टाचार वैसा ही हैय़

दादरी में ओवरलोडिंग के मामले में मुख्यमंत्री को ओपी चौटाला ने चिट्ठी लिखी है कि हमारी सरकार पारदर्शी सरकार है, इसकी सीबीआई जांच हो जब एक मंत्री यह मांग कर रहा है कि इसकी सीबीआई जांच हो, लेकिन इसका मतलब यह है कि ओपी धनकड़ को मुख्यमंत्री पर विश्वास नहीं है क्योंकि विजिलेंस उनके अंदर है।

इनेलो से गठबंधन बीएसपी ने तोड़ा है, अगर दोबारा गठबंधन की बात करेंगे, तो देखा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *