कस्सी-तसले की बजाय आधुनिक उपकरण देंगे मजदूरों को, वोट नहीं मांगता लेकिन श्रमिक अपने बच्चों को शिक्षा-संस्कार जरूर दें -अभिमन्यु

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष
Ajay Lohan, Yuva Haryana
Narnoud, 12 August, 2018
वित्त एवं राजस्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि मनरेगा श्रमिकों ने अपने खून-पसीने से हरियाणा को अव्वल राज्य बनाया है। मनरेगा के कामों में जहां हिसार प्रदेश के अन्य जिलों के मुकाबले सबसे आगे है, वहीं हरियाणा के श्रमिकों को देश के अन्य सभी राज्यों के मुकाबले ज्यादा मेहनताना मिलता है। 
वित्त मंत्री आज जिला हिसार के नारनौंद की अनाज मंडी में मनरेगा श्रमिक सम्मान एवं जागरूकता समारोह में उमड़े कामगारों के अपार जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। वित्त मंत्री ने मनरेगा श्रमिकों को घड़ी, टिफिन, पानी की बोतलें भेंट की और उनके साथ बैठकर भोजन किया। समारोह में 8 हजार श्रमिकों के पहुंचने की उम्मीद थी, जबकि यह संख्या 15 हजार तक पहुंच गई जिसके लिए बाद में शैड के अलावा बाहर टैंट लगाकर अतिरिक्त व्यवस्था करनी पड़ी। मुख्य शैड के साथ लगते दूसरे शैड में भी भारी संख्या में लोगों ने खड़े होकर कार्यक्रम को सुना। 
वित्त मंत्री ने श्रमिकों को हिंदुस्तान का निर्माता और सृष्टि का रचयिता बताते हुए कहा कि उनकी मेहनत और मजदूरी के कारण ही आज देश और प्रदेश तरक्की व खुशहाली के मार्ग पर आगे बढ़ रहा है। हरियाणा सरकार द्वारा मनरेगा मजदूरों को केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित दिहाड़ी से ज्यादा मेहनताना दिया जा रहा है। आज हरियाणा के मनरेगा श्रमिक को प्रतिदिन 281 रुपये मजदूरी दी जा रही है। मनरेगा का काम करवाने में हिसार जिला अन्य सभी जिलों से आगे है जिसके लिए उन्होंने जिला प्रशासन की खुलकर सराहना की।
वित्त मंत्री ने भारी संख्या में समारोह में पहुंची महिलाओं को हरियाली तीज, रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हुए उन्हें कौथली के रूप में जिला के प्रति श्रमिक को मिल्टन कंपनी का एक बढिय़ा टिफिन, एक थर्मस बोतल और दीवार घड़ी देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि त्यौहार की यह सौगात मनरेगा एबीपीओ व मेट के माध्यम से सूची के आधार पर हर श्रमिक को उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि जिला में खेतों में बनी जिन ढाणियों में अभी तक पक्की सडक़ें नहीं हैं वहां मनरेगा के माध्यम से सडक़ें बनवाई जाएंगी। इसके लिए अलग से बजट का भी प्रावधान किया जाएगा।
उन्होंने श्रमिकों से तीन चीजें अपनाने का आह्वान किया। श्रमिक अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलवाएं और उन्हें संस्कार दें ताकि वे भारत माता के सच्चे सपूत बन सकें। बच्चों को शिक्षा मुहैया करवाने के लिए हर मामले में पिछड़े नारनौंद हलके में चार कॉलेज और चार आईटीआई बनवाई गई हैं। उन्होंने कहा लोग स्वच्छता को अपनाएं। जब आपका घर, गांव और जिला स्वच्छ होगा तो हर जगह आपको सम्मान मिलेगा। उन्होंने कहा कि क्या आप ऐसे घर में अपनी बेटी की शादी करेंगे जहां साफ-सफाई न रखी जाती हो, इसी प्रकार आपके घर में भी बेटे की बहु तभी आएगी जब आप अपना घर साफ  रखोगे।
उन्होंने कहा कि जब मैं फौज का कप्तान था तो दो महीने की छुट्टी भी आता था तो घर की सफाई  करने, पशुओं का गोबर उठाने और गली साफ  करने में भी गर्व का अनुभव होता था। उन्होंने लोगों से पर्यावरण शुद्धता पर ध्यान देने का भी आह्वान किया। उन्होंने कहा कि जब चारों तरफ हरियाली होगी तो जीवन अधिक सुंदर होगा। उन्होंने कहा कि आज मैं आपसे वोट नहीं मांगता लेकिन आपसे बच्चों की शिक्षा व संस्कार, साफ-सफाई तथा पर्यावरण संरक्षण करने की गुहार लगाता हूं।
उन्होंने कहा कि मैंने जीवन में कई तरीकों से तीज मनाई हैं। झूले भी झूले हैं और झूलों से गिरा भी हूं। आज श्रमिक भाई-बहनों के साथ तीज मनाने में, उनके साथ बैठकर खाना खाने में जो आनंद आया है, वह पहले कभी नहीं आया, क्योंकि जो मजदूर रात-दिन मेहनत करके अपने दो हाथों का इस्तेमाल करके इस देश और समाज के निर्माण में खून-पसीना बहाता है, उनके प्रति मेरे मन में अपार श्रद्धा है।
कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि प्रदेश में मजदूरों के काम के वातावरण को सुधारा जाएगा। उन्होंने प्रशासन से आह्वान किया कि श्रमिकों के लिए कस्सी-तसले के स्थान पर ऐसे आधुनिक उपकरण उपलब्ध करवाए जाएं, जिनसे कम मेहनत में अधिक काम किया जा सके। उन्होंने कहा कि मजदूरों को आधुनिक उपकरण देने के लिए जरूरत पडऩे पर वे मंत्री के कोटे से ग्रांट देंगे।
वित्तमंत्री ने कहा कि मनरेगा में सिंचाई विभाग के कार्यों को शामिल करवाने के लिए मैंने पिछले दिनों केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र तोमर से मुलाकात की थी। केंद्रीय मंत्री ने इस दिशा में जल्द सकारात्मक निर्णय लेने का भरोसा दिलाया है। इसके अलावा, केंद्रीय मंत्री ने श्रमिकों की मजदूरी को भी बढ़ाने का आश्वासन दिया है।
उन्होंने उम्मीद जताई कि आगामी बजट में इस दिशा में महत्वपूर्ण घोषणा हो सकती है। उन्होंने कहा कि 5 अगस्त को बरवाला में आयोजित कपास-किसान धन्यवाद रैली में नारनौंद से पहुंची भारी भीड़ से उत्साहित होकर मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने नारनौंद हलके के विकास के लिए 130 करोड़ रुपये की ग्रांट देने की घोषणा की थी जिसके लिए उन्होंने हलके के लोगों की ओर से मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *