जाट आरक्षण में वित्त मंत्री के घर पर आगजनी के आरोपी खुलकर आए सामने, यशपाल मलिक, अशोक बल्हारा पर साधा निशाना

Breaking अनहोनी बड़ी ख़बरें हरियाणा

Deepak Khaokhar, Yuva Haryana

Rohtak

वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु के रोहतक आवास पर आगजनी के आरोपी अब खुलकर मीडिया के सामने आ गए हैं। एक दिन पहले पंचकूला स्थित सीबीआई कोर्ट जाते समय इन आरोपियों ने फेसबुक लाइव के जरिए जाट नेता यशपाल मलिक व अशोक बलहारा पर निशाना साधा था।

मंगलवार को आरोपियों ने सीबीआई जांच पर भी सवाल उठाए है। उन्होंने कहा कि इतने बड़े आवास को षड्यंत्र के बिना नहीं जलाया जा सकता। इसलिए कैप्टन अभिमन्यु को भी इंसाफ मिले और बेगुनाहों को भी।

बता दें कि फरवरी 2016 में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हुई हिंसा में कैप्टन अभिमन्यु के आवास पर आगजनी, लूटपाट व तोड़फोड़ हुई थी। यह मामला सीबीआई के हवाले कर दिया गया था। इस मामले में 40 नामजद आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज हुआ था। अब हाल ही में सीबीआई की ओर से पंचकूला कोर्ट में दाखिल की गई चार्जशीट में 11 और आरोपियों के नाम जोड़े गए हैं।

इन आरोपियों में प्रमुख तौर पर जाट नेता अशोक बलहारा व पूर्व मंत्री कृष्णमूर्ति हुड्डा के पुत्र गौरव हुड्डा का नाम भी शामिल है। इसी मामले में सोमवार को पंचकूला सीबीआई कोर्ट में पेशी थी। 20 आरोपियों ने रोहतक से बस में ही फेसबुक पर लाइव 40 मिनट का वीडियो बनाया था। इस वीडियो में यशपाल मलिक के नजदीकी जाट नेता यशपाल बलहारा पर खास तौर पर निशाना साधा गया।

सीबीआई कोर्ट में पेशी के बाद रोहतक लौटे इन आरोपियों ने कहा कि कैप्टन अभिमन्यु के आवास पर आगजनी में कहीं न कहीं राजनीतिक षड्यंत्र है। आरोपी नरेंद्र बडसरा ने कहा कि सीबीआई को भी निष्पक्ष तौर पर जांच करनी चाहिए और बेगुनाहों को क्लीनचिट देनी चाहिए।

यशपाल मलिक व अशोक बलहारा पर निशाना साधते हुए कहा कि आज तक किसी भी आंदोलनकारी के खिलाफ केस वापस नहीं हुआ है। पूर्व सरपंच योगानंद ने कहा कि आंदोलनकारी परेशानी की हालत में थे, इसलिए फेसबुक पर लाइव आकर अपनी व्यथा सुनाई।

उन्होंने कहा कि जिसने भी कैप्टन अभिमन्यु के आवास पर आगजनी की है, गलत किया है। कैप्टन अभिमन्यु से भी अपील है कि दोषी को बचाएं नहीं और निर्दोष को फंसाए नहीं। आरोपी धर्मेंद्र ने कहा कि सीबीआई की जांच निष्पक्ष होनी चाहिए। दोषी कोई भी हो, उसे सजा मिले। षड्यंत्रकारी सामने आने चाहिएं। कैप्टन अभिमन्यु को भी न्याय मिले और निर्दोषों को भी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *