आदर्श गांव विकास में पिछड़े, दूसरे गांवों ने किया विकास

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

Yuva Haryana
Chandigarh, 15 April, 2018

प्रदेश में विधायक आदर्श ग्राम योजना अफसरों की मनमानी के चलते खटाई में पड़ रही है, आलम ये है कि आदर्श गांव विकास में पिछड़ रहे हैं और दूसरे सामान्य गांव विकास में आगे निकल रहे हैं।

एक जानकारी के मुताबिक प्रदेश के ज्यादातर आदर्श गांव विकास में पिछड़ रहे हैं। इन गांवों में विधायकों और सांसदों ने गोद लिया था लेकिन अब यही गांव गोद में लेने के बाद बावजूद भी विकास की दौड़ में पीछे रह गए हैं।

बताया जा रहा है कि गोद लिये गावों के विकास के लिए करीब 50 करोड़ रुपये मंजूर किये जा चुके हैं, लेकिन यहां पर ज्यादातर प्रोजेक्ट लटके पड़े हैं जिस वजह से इन गांवों में विकास ही नहीं हो पा रहा है।

एक अखबार के मुताबिक जनप्रतिनिधियों ने कुल 45 गांवों को गोद लिया था और इनके लिए सरकार ने करीब 50 रुपये की विकास परियोजनाओं को मंजूरी भी दी थी लेकिन सरकारी विभाग के अफसरों ने इनमें कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई जिस वजह से ज्यादातर प्रोजेक्ट अधर में ही लटक गए।

सरकार और विधायकों के दबाव के बावजूद भी गांवों में गली, फिरनी, चौपाल, तालाब समेत कई प्रोजेक्टों में सिर्फ 13.17 करोड़ रुपये की खर्च किये गए हैं, जबकि 15 तो ऐसे गांव हैं जिनमें 12.65 करोड़ रुपये विकास परियोजनाओं को लिए मंजूर किये गए हैं,लेकिन यहां पर एक पैसा भी अभी तक खर्च नहीं हुआ है।

खुद सीएम मनोहर लाल खट्टर के गोद लिये गांव क्योड़क के विकास के लिए 91 लाख रुपये मंजूर किए गये थे, लेकिन करीब 15 लाख रुपये की ही धनराशि अब तक खर्च हो पाई है।

यह खबर भी देखें >>>>
अब गांव में घर-घर जाकर एलईडी बल्ब बांटेगा बिजली विभाग
 

1 thought on “आदर्श गांव विकास में पिछड़े, दूसरे गांवों ने किया विकास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *