मौलिक शिक्षा निदेशालय ने जारी किए नए निर्देश, तीन साल की उम्र के बाद मिलेगा प्री नर्सरी में दाखिला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana,

Chandigarh, 19 Feb,2019

निजी स्कूलों में नर्सरी और प्री नर्सरी कक्षाओं में दाखिलों के संबंध में मौलिक शिक्षा निदेशालय ने नए निर्देश जारी कर दिए हैं। नए निर्देशों के अनुसार अब प्री नर्सरी में दाखिले की उम्र 31 मार्च को कम से कम तीन वर्ष होनी चाहिए। इससे पहले यह दो वर्ष निर्धारित थी। नए निर्देशों के मुताबिक प्रत्येक सेक्शन में 20 से अधिक बच्चे नहीं रखने और पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर दाखिला देने को कहा गया है।

पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार को दाखिले संबंधित निर्देश जारी किए थे,  जिस लेकर शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास ने निर्देश जारी किए हैं। निर्देशों में नए शैक्षिक सत्र से प्री स्कूल कक्षा वन में दाखिले की उम्र तीन वर्ष, प्री स्कूल कक्षा टू के लिए चार वर्ष होनी आवश्यक है। साथ ही दाखिले के दौरान छात्रों से किसी प्रकार की लिखित या मौखिक परीक्षा नहीं ली जाएगी। एक किलोमीटर के दायरे में रहने वाले छात्रों को वरियता दी जाएगी और स्कूली कर्मचारियों के बच्चों, दिव्यांग, लड़की का कोटा निर्धारित रहेगा।

दरअसल, निजी स्कूलों के संचालकों द्वारा नर्सरी,  प्री नर्सरी में केजी, केजी टू आदि कक्षाओं में दाखिले किए जाते हैं, जिनमें दो साल से भी कम उम्र के भी बच्चों को दाखिला दे दिया जाता है। दाखिले के दौरान बच्चों के टेस्ट के अलावा अभिभावकों से भी उनकी पढ़ाई और स्टेटस संबंधित सवाल किए जाते हैं। बड़े स्कूलों में जिन अभिभावक का स्टेट्स अच्छा होता है, उनके बच्चों को दाखिले में वरियता दी जाती है, जिससे मध्यम दर्जे के लोग अपने बच्चों को अच्छे स्कूलों में दाखिला दिलाने से वंचित रह जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *