किसानों ने सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, कुरुक्षेत्र में हजारों किसानों ने भरी हुंकार

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Darshan Kait, Yuva Haryana,

Kurukshetra, 03 Feb,2019

धर्मनगरी कुरुक्षेत्र की अनाज मंडी में किसान मजदूर राज रैली की गई। रैली में राष्ट्रीय स्तर के किसान नेताओं और हजारों की संख्या में किसानों ने हिस्सा लिया।

इस रैली में अखिल भारतीय किसान यूनियन के संयोजक वी एम सिंह ने सरकार के इस बजट को चुनावी जुमला बताया। देश के किसानों ने सरकार से 5 सालों का हिसाब मांगना शुरू कर दिया है। सरकार द्वारा बजट पेश करने के बाद किसानों ने आज प्रदेश स्तरीय रैली की।

इस रैली में हजारों किसान और किसान नेताओं ने भाग लिया अखिल भारतीय किसान यूनियन के संयोजक वी एम सिंह ने बताया की सरकार के 5 साल लगभग पूरे हो चुके हैं। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के कई वादे किए, जो अभी तक पूरे नहीं किए गए और जाते-जाते किसानों बजट में भी जलील करने का भी कार्य किया है। वीएम सिंह ने किसानों को दी जाने वाली राशि के बारे में कहा किसानों के ₹3 प्रति दिन देना जलील करने जैसा है। 2019 के चुनाव में अपने हक की लड़ाई किसान फिर से लड़ेगा।

किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने बताया कि अब तक किसी भी सरकार ने किसानों की तरफ ध्यान नहीं दिया। सरकार किसानों के साथ लंबे समय से खिलवाड़ करती आ रही है।

स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू करने का वादा सरकार ने किया था वह अभी तक पूरा नहीं किया। किसानों की अन्य मांग भी रही है, जिसमें कर्जमाफी, न्यूनतम, मूल्य बेरोजगारों, के बिना ब्याज के 5 लाख तक का कर्ज देने की जैसी अपनी सभी मांगों राजनीति पार्टियों को लिख कर भेजी हैं पर कोई जवाब नहीं मिला। 2019 के चुनाव में किसान वोट जाति धर्म में बैठकर नहीं देगा अबकी बार किसान वोट किसान मुद्दों पर देगा।

चढूनी कहा कि देश में किसानों की 65% फिसदी वोट है उसके बाद भी अपने हक के लिए भिखारी बनकर रह गया है और मोदी सरकार ने जो किसानों के लिए 6000 सालाना देने की बजट में घोषणा की है वह किसानों के जले पर नमक छिडकने के बराबर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *