“Amazon” की पुस्तक लेखन प्रतियोगिता में प्रशांत देसवाल का पहला स्थान, PM नरेंद्र मोदी भी फैन

देश हरियाणा विशेष

चुनौतियों से न घबराओ, जो भी मिले करो और उसमें शत-प्रतिशत दो। यही मंत्र है 11वीं के छात्र व अमेजॉन की पुस्तक लेखन प्रतियोगिता में पहला स्थान पाने वाले प्रशांत देशवाल का। प्रशांत के लिखे जासूसी नॉवेल के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी फैन हो गए हैं। उन्होंने पहले ईमेल और फिर ट्वीट कर प्रशांत को भविष्य में और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित किया है।

समालखा ब्लॉक के गांव महावटी निवासी प्रशांत देसवाल के पिता विनोद कुमार खेती करते हैं, जबकि मां शीना गृहिणी हैं। छोटी बहन प्रशंसा नौवीं कक्षा में पढ़ती है। प्रशांत गांव से कुछ दूरी पर स्थित डिकाडला के एसजेएस स्कूल में पढ़ते हैं। उन्होंने आर्ट विद मैथ लिया हुआ है।

प्रशांत बताते हैं कि बचपन से ही उन्हें कल्पना की दुनिया अच्छी लगती थी। परिवार गांव में रहता है। इसलिए गूगल की मदद ली। खूब पढ़ता हूं। हिंदी और अंग्रेजी में जो भी मिला, पढ़ा। इसमें जासूसी किताबें भी थीं। सीरियल भी देखे। खासतौर पर हिस्ट्री व डिस्कवरी चैनल। बीते अक्टूबर में अमेजॉन ने पुस्तक लेखन प्रतियोगिता कराई थी। पुस्तक लिखकर ऑनलाइन जमा करानी थी। सोचा क्यों न मैं भी इस प्रतियोगिता में शामिल हो जाऊं। अब तय करना था कि क्या लिखा जाए? गूगल पर सर्च किया तो पता चला कि सबसे ज्यादा जासूसी कहानियां व नॉवेल पढ़े जाते हैं। फिर क्या था? 111 पन्नों का जासूसी नॉवेल ‘द देसवाल आइडेंटिटी लिख डाला।

प्रशांत बताते हैं कि उनका नायक एक जासूस है। कुछ लोग उसे गोली मारते हैं, जिसमें वह बच जाता है, लेकिन दिमाग में गोली लगने से वह याददाश्त खो बैठता है। बाद में वह कैसे अपने को पहचानता है, कैसे हमलावरों को ढूंढ़ कर मार डालता है, यही सब लिखा है। 1 नवंबर को जब रिजल्ट आया तो उसे प्रथम पुरस्कार मिला, जबकि दूसरे स्थान पर जापान का लेखक रहा। प्रशांत ने बताया कि उनकी पुस्तक की कीमत 645 रुपये है। कुछ दिन पहले तक 8000 प्रतियां बिक चुकी थीं। कीमत का 60 फीसद उन्हें मिलता है।

प्रशांत की खुशी का ठिकाना नहीं रहा जब प्रधानमंत्री कार्यालय से ई मेल आई। मेल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उनकी पुस्तक पढऩे का उल्लेख था। यू ट्यूब पर उनके गीत यार अकेले… सुनने के बाद मोदी ने ट्विटर पर उन्हें भविष्य में और अच्छा करने की शुभकामनाएं दीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *