अन्नदाता के अनाज की बेकद्री, सड़कों पर खुले में पड़ा है अनाज

Breaking खेत-खलिहान बड़ी ख़बरें हरियाणा

Deepak Khokhar, Yuva Haryana
Rohtak, 11 April, 2018

प्रदेश सरकार चाहे जो भी दावे करे लेकिन हकीकत कुछ और ही है। किसानों की मेहनत के एक-एक दाने को खरीदने और सुरक्षित रखने के दावों में कोई दम नहीं है। खरीद एजेंसियों की लापरवाही के चलते अनाज का अनादर हो रहा है।

रोहतक में खिडवाली से सांघी मंडी तक जाने वाली करीब 6 किलोमीटर सड़क पर ड्रेन के साथ हजारों क्विंटल गेहूं खुले में पड़ा हुआ है। ऐसा नहीं है कि यह पहली बार और मामला अधिकारियों के संज्ञान में न हो, लेकिन इसके बावजूद अब तक सड़क से गेहूं उठवाने के कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं।

गेहूं कटाई का सीजन शुरू हो चुका है। ऐसे में किसान अपनी साल भर की मेहनत को लेकर मंडियों में पहुंच रहे हैं, लेकिन पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के पैतृक गांव सांघी की अनाज मंडी के हालात बुरे हैं। मंडी में अनाज रखने के लिए शेड न होने से हजारों क्विंटल गेहूं खुले में पड़ा हुआ है। गेहूं का उठान नहीं हो रहा है। जिसके चलते मंडी में पैर रखने तक को जगह नहीं है।

मंडी में गेहूं लाने का इंतजार कर रहे किसानों ने खिडवाली से लेकर सांघी मंडी तक करीब 6 किलोमीटर सड़क पर ही अपना हजारों क्विंटल गेहूं डाल दिया है। सड़क पर गेहूं बिखरा होने की वजह से इसे आने-जाने वाले वाहन भी रौंद रहे हैं। वहीं, मामूली सी बारिश में ही गेहूं के खराब होने के पूरे आसार हैं।

किसानों का कहना है कि वे मजबूरी में सड़क पर गेहूं डाल रहे हैं, जो बर्बाद हो रहा है। उन पर चारों ओर से मार पड़ रही है। पहले महंगे खाद व बीज, फिर बेमौसमी बरसात और अब मंडी में अव्यवस्था।

किसानों का कहना है कि सरकार सिर्फ दावे करती है, जबकि धरातल पर हकीकत कुछ और ही है। मंडी में खरीद के न तो सही प्रबंध किए गए और न ही जगह उपलब्ध कराई गई। ऐसे में वे परेशान हैं। किसान गेहूं को बचाने में खुद को असहाय महसूस कर रहा है।

वहीं, आढ़तियों ने भी सरकारी व्यवस्था को जमकर कोसा है। उनका कहना है कि सांघी अनाज मंडी में अब तक गेहूं की खरीद नहीं हुई है, जबकि 1 अप्रैल से खरीद की घोषणा हो चुकी है। साथ ही गेहूं के लिए बारदाना भी नहीं आया है। किसान गेहूं लेकर मंडी में पहुंच रहे हैं, लेकिन उन्हें यहां किसी प्रकार की सुविधा नहीं है।

यह खबर भी देखें >>>>
हरियाणा में काला गेहूं की खेती शुरू, मधुमेह और कैंसर रोग का करेगी खात्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *