आंगनबाड़ी वर्करों की पुकार, अब तो सुनो सरकार

Breaking बड़ी ख़बरें रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा

हिसार समेत प्रदेश के कई इलाकों में आंगनबाड़ी वर्कर और हैल्पर अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर हैं, आज हिसार में आंगनबाड़ी वर्करों ने प्रदर्शन किया।
पक्का करने समेत कई मांगों को लेकर आंगनबाड़ी वर्कर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल चुकी हैं, सरकार से कई बार बातचीत भी हुई हैं, लेकिन सिरे नहीं चढ़ी।

समान काम-समान वेतन देने व पक्का करने की मांग को लेकर पिछले दिनों आंगनबाड़ी वर्कर्स कटोरा लेकर भीख मांगना, मटका फोड प्रदर्शन, थाली बजाओ अभियान, प्रदेश सरकार का पुतला फूंकना आदि तरीकों से विरोध जता चुके है, परन्तु अभी तक प्रदेश सरकार के कानों पर जूं भी नहीं रेंगी है, जिसके चलते आंगनबाड़ी वर्कर्स की लड़ाई लंबी चलने के आसार है।

यूनियन की कर्मचारी नेता राजबाला, सचिव सरोज चहल ने बताया कि आंगनवाड़ी वर्करों को पक्के कर्मचारियों का दर्जा देने, न्यूनतम वेतन 24 हजार रूपये लागू करने, पीएफ, ईएसआई, बोनस, ग्रेच्यूटी, पैंशन, पदोन्नति सहित अन्य मांगों को लागू करने की मांग की।

कर्मचारी नेताओं ने बताया कि सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें अन्य विभागों में 2016 से लागू हो चुकी है, लेकिन हमें 2017 से मात्र 640 रूपए तथा 70 रूपए हैल्पर के मानदेय में बढ़ोतरी करके कर्मचारियों के साथ घोर भेदभाव किया जा रहा है। आंगनवाड़ी का समय सरकार द्वारा 6 घंटे कर दिया गया है, इसके बाद भी इनकों अन्य कार्यों में लगाया जाता है। जिसके बदले इनकों न्यूनतम वेतनमान भी नहीं दिया जा रहा है तथा पिछले 6 माह से इनको मानदेय नहीं दिया जा रहा है। सरकार द्वारा लगातार केंद्रों का बजट कम करके आंगनवाड़ी की महिलाओं का शोषण कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *