गब्बर को आया गुस्सा, दो डॉक्टर सस्पेंड, दो डॉक्टरों को चार्जशीट, 3 डॉक्टर और 1 स्टाफ नर्स से मांगा स्पष्टीकरण

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Rajesh Sharma, Yuva Haryana
Ambala, 04 August, 2018

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज आज अचानक एक्शन मोड में नजर आए और अचानक अंबाला कैंट के सिविल अस्पताल में औचक निरीक्षण करने के लिए पहुंच गए। इस दौरान कई खामियां यहां पर देखने को मिली जिसके बाद अनिल विज ने कड़ा एक्शन लेते हुए दो डॉक्टरों को सस्पेंड कर दिया जबकि दो डॉक्टरों को चार्जशीट किया है। इसके अलावा तीन डॉक्टरों और एक स्टाफ नर्स से स्पष्टीकरण मांगा है।

स्वास्थ्य मंत्री को अंबाला कैंट समेत प्रदेश के कई अस्पतालों में डॉक्टरों की लापरवाही और चरमराती स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर शिकायतें मिल रही थी जिसके बाद आज अचानक स्वास्थ्य मंत्री कैंट के सिविल अस्पताल में पहुंच गए । इस दौरान करीब दो घंटे तक स्वास्थ्य मंत्री ने अस्पताल का निरीक्षण किया और यहां पर मरीजों के साथ बातचीत की।

इस दौरान मरीजों ने बताया कि अस्पताल में स्टाफ कर्मी मरीजों के साथ बदसलूकी करते हैं और हेल्थ कार्ड भी हाथों से छीन लेते हैं। वहीं अनिल विज को दिखाया गया कि किस प्रकार से डॉक्टर बाहर की दवाईयां मरीजों को लिखकर देते हैं।  इस प्रकार से बाहर की दवाईयां लिखी देखकर स्वास्थ्य मंत्री को भी गुस्सा चढ़ गया और उन्होने खूब फटकार लगाई।

अस्पताल में भर्ती डाइबटीज के एक मरीज ने बताया कि वो कई दिनों से अस्पताल में भर्ती है और कोई सुदबुद्ध लेने वाला भी नहीं है। मेल वार्ड में एक ही बेड पर दो दो मरीज पड़े हुए दिखाई दिए। यहां भर्ती एक मरीज की पत्नी ने बताया कि यहां कोई व्यवस्था नहीं है जिससे मरीजों में इंफेक्शन फैल सकता है। कोई सुनवाई करने वाला भी यहां नहीं है।
अस्पताल में इलाज के लिए अपनी मां को लेकर आई एक युवती ने अस्पताल के  सिस्टम की पोल खोल कर रख दी। युवती ने मंत्री को बताया कि यहां के स्टाफ को बोलने का बिल्कुल भी सलीका नहीं है। मरीज के टेस्ट दवाईयां बाहर से लाने को कहा गया है। साथ ही ऑपरेशन के 20 हजार रुपए भी मांगे गए हैं। यहां मरीजों की गीली चादर भी नहीं बदली जाती।
मरीजों की व्यथा सुनकर स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने तुरंत संज्ञान लेते हुए अस्पताल के 2 हड्डी रोग विशेषज्ञ डाक्टरों को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए और 2 डाक्टरों को चार्जशीट कर दिया। विज का गुस्सा यहीं नहीं थमा स्वास्थ्य विभाग की किरकिरी करवाने पर विज ने 3 डाक्टरों और 1 नर्स से स्पष्टीकरण काल कर लिया है।
स्वास्थ्य विभाग के बीमार सिस्टम पर कार्रवाई का इंजेक्शन लगाने के बाद विज अस्पताल से वापिस लौट गए परन्तु अस्पताल के बाहर खड़े प्राइवेट एम्बुलेंसों के काफिले को देखकर 5 मिनट बाद ही वापिस लौट आये। अस्पताल में वापिस आकर विज ने सरकारी एम्बुलेंस का रिकॉर्ड चेक किया और सिस्टम को व्यवस्थित और सही तरीके से चलाने के आदेश दिए। कार्रवाई से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है।

डाक्टरों से संतोषजनक जवाब न मिलने पर स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने हड्डी रोग विभाग के चिकित्सक डॉ0 गौरव सिंगला, डा0 अश्वनी मुदगिल को निलम्बित करने के निर्देश दिए। इसी विभाग के डा0 विनोद कम्बोज को अंडर रूल 8 के तहत चार्जशीट किया गया है। इसके अलावा मनोरोग विशेषज्ञ डा0 कुलदीप, सामान्य रोग विभाग से डा0 रीता कठवाल और डा0 पूजा शर्मा व एमरजेंसी वार्ड में तैनात डा0 राजेश को स्पष्टीकरण देने के आदेश दिए गए हैं।
इसके अलावा स्टाफ नर्स सुनीता का भी स्पष्टीकरण मांगा गया है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इन चिकित्सकों व स्टाफ नर्स का जवाब मिलने के बाद आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। उन्होंने 2:15 बजे तक अधिकतर चिकित्सकों के अस्पताल छोड देने पर भी गहरी आपत्ति दर्ज की और एसएमओ डा0 सतीश गुप्ता से पूछताछ की कि ओपीडी में मरीज होने के बावजूद चिकित्सकों का जाना कहां तक जायज है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *