राज्य पशुधन प्रदर्शन की हुआ आगाज, मेले में जलवे बिखेर रहे पशु

Breaking कला-संस्कृति चर्चा में देश बड़ी ख़बरें शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Pradeep Dhankhar, Yuva Haryana

Jhajjar, 21 Dec, 2018

हरियाणा की राज्य स्तरीय पशुधन प्रदर्शनी झज्जर में शुरू हो गई है। 3 दिनों तक चलने वाली पशुधन प्रदर्शनी का शुभारंभ कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ और पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद संजीव बालयान ने किया। पशुधन प्रदर्शनी में राज्य के अलग-अलग इलाकों से मुर्रा नस्ल की भैंस, झोटे, गाय, नंदी, घोड़े और ऊंट भी आए हैं।

कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि अगर पशुओं की ठीक से व्यवस्था हो जाए, तो किसान आर्थिक तौर पर मजबूत हो जाएगा। देश और प्रदेश की प्रगति के लिए जरूरी है कि किसान को नए-नए साधन मुहैया करवाए जाएं। ताकि किसान आर्थिक दृष्टि से स्वावलंबी बन सके।उन्होंने कहा कि बेहतरीन नस्ल के पशुओं की प्रदर्शनी किसान और पशुपालकों के लिए प्रेरणादायक सिद्ध होंगे।

किसान की आय बढ़ाने के लिए किसान को कृषि के नए साधन मुहैया कराने के साथ-साथ पशुधन की बेहतर और आधुनिक व्यवस्था करनी होगी। ओम प्रकाश धनखड़ का कहना है कि उनका लक्ष्य प्रति व्यक्ति दूध की उपलब्धता और प्रति पशु दूध उत्पादन बढ़ाना है और आने वाले समय में हरियाणा इस मामले में पहले स्थान पर होगा।

पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद संजीव बालयान का कहना है कि पूरे देश में हरियाणा का पशुधन सबसे बेहतर है और इस तरह की प्रदर्शनी के माध्यम से किसानों को जागरूक करने में सहायता मिलती है। साथ ही किसान भी मेले में आकर विभिन्न जानकारियां जुटा सकते हैं और अपने पशुओं की नस्ल सुधार के साथ-साथ दूध उत्पादन भी बढ़ाने का काम कर सकते हैं।

पशुधन प्रदर्शनी का शुभारंभ करने के बाद किसानों के लिए एक लकी ड्रा भी निकाला गया। राज्य में किसानों को ड्रा के लिए कूपन दिए गए थे। पशुधन प्रदर्शनी के पहले दिन प्रदर्शनी में शिरकत करने आए लोगों को एक बुलेट मोटरसाइकिल, एक दूध दोहने की मशीन और पशुओं के नीचे बिछाने वाले गद्दे इनाम में दिए गए।

बता दें कि झज्जर की पुलिस लाइन में आयोजित इस तीन दिवसीय राज्यस्तरीय पशुधन प्रदर्शनी में उम्दा किस्म के पशु देखने को मिल रहे हैं। वहीं रुस्तम, अंगद, ताज जैसे प्रसिद्ध मुर्रा नस्ल के झूठे सबका ध्यान आकर्षण कर रहे हैं। वहीं प्रदर्शनी देखने पहुंचे किसानों को भी इससे काफी फायदा मिल रहा है।

किसानों का कहना है कि प्रदर्शनी के माध्यम से उन्हें न सिर्फ प्रदेश का काला सोना देखने को मिल रहा है। बल्कि उन्हें अपने पशुओं का भी बेहतर ढंग से रखरखाव करने के लिए टिप्स मिल रही है। प्रदर्शनी के तीसरे दिन प्रतियोगिता में पहले स्थान पर रहने वाले पशुओं की एक रैंप वॉक का आयोजन भी किया जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *