इनेलो ने पीजीटी संस्कृत को नियुक्ति देने की उठाई मांग, शिक्षा विभाग में खाली पदों को भी भरने की मांग

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana, Chandigarh

इनेलो नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने मुख्यमंत्री हरियाणा को प्रदेश में चयनित पीजीटी संस्कृत जो लगभग पांच साल से चयन प्रक्रिया में थे, अभी तक नहीं लग पाए हैं, के बारे पत्र लिखकर मांग की है कि सरकार के स्तर पर त्वरित कार्रवाई करते हुए चयनित प्रार्थियों को शीघ्र नियुक्ति दी जाए। जिसमें लगभग 80 प्रतिशत महिलाएं हैं जबकि अन्य सभी विषयों के अध्यापक जिनका चयन इनके साथ ही हुआ था, की नियुक्ति दो वर्ष पहले ही हो चुकी है।

उल्लेखनीय है कि हरियाणा में शिक्षकों के वर्तमान में लगभग 40 हजार पद रिक्त हैं तथा 3300 उच्च/वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में 1600 मुख्याध्यापकों/प्रधानाचार्यों के पद भी रिक्त हैं जिसकी वजह से शिक्षा व्यवस्था में प्रबंधन अधूरा है तथा इस हालत में शिक्षा में गुणात्मक सुधार का दावा बेमानी हो जाता है।

इस पत्र के माध्यम से इनेलो नेता ने मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित करते हुए बताया कि हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग द्वारा वर्ष 2015 में इन पदों का विज्ञापन दिया गया था तथा 2016 में लिखित परीक्षा संपन्न की गई। 2018 तक साक्षात्कार की प्रक्रिया पूर्ण करके चयन कर लिया गया था परंतु उच्च न्यायालय के स्थगन आदेश की वजह से नियुक्ति नहीं हो पा रही। जिसकी वजह से चयनित उम्मीदवारों जिसमें लगभग 80 प्रतिशत महिलाएं हैं, लगभग पांच साल से भर्ती प्रक्रिया लम्बित होने की वजह से भारी निराशा में हैं।

इनेलो नेता ने कहा कि सरकार के ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान के तहत इन महिला उम्मीदवारों की नियुक्ति शीघ्र दिलवाने के लिए सरकार द्वारा त्वरित प्रयास किए जाएं। उल्लेखनीय है कि इन उम्मीदवारों में ज्यादातर पिछड़ी जातियों, अनुसूचित जातियों से हैं तथा एक मुस्लिम महिला भी उम्मीदवार है।

इनेलो नेता ने कहा कि ऐसी परिस्थितियों में सरकार को कानूनी प्रक्रिया को त्वरित गति से निपटान करवाने के लिए हर संभव प्रयास करवाए जाएं तथा माननीय उच्च न्यायालय से आग्रह किया जाए कि इस केस का शीघ्र निपटान हो ताकि सभी चयनित उम्मीदवारों की नियुक्ति हो सके तथा शिक्षा के सुधार का दावा आगे बढ़ सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *