आजादी के दिवाने की करोड़ो की जमीन को भतीजे ने कौड़ियों के दाम पर बेच दिया

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Bhiwani 9 jan. 2019

भिवानी में आजादी के दिवाने रामधन की करोड़ो रुपये की जमीन कौड़ियों के दाम बेच कर धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। सगे भतीजे ने फर्जी कागाजात तैयार करवाकर फर्जी लोगों को खड़ा कर फर्जी मुख्तारनाम तैयार कर इस धोखाधड़ी को अनजाम दिया। फिलहाल चार लोग पुलिस की गिरफ्त में हैं। फर्जी कागजात तैयार करने वाले और तहसील कार्यालय के कर्मचारी भी संदेह के घेरे में हैं।

बता दें कि गांव चांग निवासी रामधन आजाद हिन्द फौज के सिपाही रहते देश के लिए जान दी थी। सरकार ने रामधन के नाम पर उसकी मां हरबाई को हिसार में साढे 12 एकड़ जमीन दी। साढे 12 एकड़ जमीन हरबाई के मरने के बाद उसकी दो बेटियों समुंदी और दया के साथ चार बेटों शिवधन, बनारसी, प्यारेला तथा मौजीराम के नाम हो गई। करोड़ो रुपये की ये जमीन अब हरबाई की दो बेटियों और चार बेटों की औलाद यानि करीब 30 लोगों के हिस्से में हो गई। ऐसे में जमीन के कई हिस्सों में बंटता देख शिवधन के बेटे रामबाबू के मन में खोट आ गया। रामधन के भतीजे रामबाबू ने तिगड़ाना गांव निवासी राजकुमार उर्फ बब्ली, रेवाड़ीखेड़ा गांव निवासी मनबीर व मालपोस गांव निवासी मुकेश के साथ मिलकर सारी जमीन हड़प ली।

रामधन के भाई शिवधन की बेटी सुमन और खुद रामबाबू ने एसपी गंगाराम पूनिया को इस पूरे मामले की शिकायत देकर जांच की मांग की।  कार्यवाई करते हुए पुलिस ने रामधन के भतीजे रामबाबू सहित मुकेश, प्रेम और अनुप को गिरफ्तार किया। रामबाबू ने इन तीनों को अपने परिवार के सदस्यों के तौर पर तहसील कार्यालय में खड़ा किया था।

एसआई राजबीर सिवाच ने बताया कि पूरी जमीन हड़पने के लिए रामबाबू ने पूरे परिवार के सदस्यों की जगह फर्जी लोगों को तहसील कार्यालय लेजाकर जमीन का मुख्तारनामा कर लिया। यही नहीं इन सभी लोगों के आधार कार्ड व राशन कार्ड सहित सभी कागजात फर्जी तैयार करवाए गए। उन्होंने बताया की हिसार में ये जमीन करीब 20-25 करोड़ो रुपये की थी जिसे इन्होंने कौड़ियों के भाव केवल 80-90 लाख रुपये में बेच दिया।