चार साल में बदहाल हुआ हरियाणा, बीजेपी सरकार ने की नीतियों से जनता हुई परेशान- तंवर

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Chandigarh, 25 Oct, 2018

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद डॉ. अशोक तंवर ने कहा है कि हरियाणा में खट्टर सरकार के चार साल राज्य की बदहाली के चार साल सिद्ध हुए हैं। समाज का कोई भी वर्ग ऐसा नहीं है जो खट्टर सरकार की गलत नीतियों और निक्कमेपन के कारण दुखी न हो। भाजपा ने अपने चुनाव घोषणा-पत्र में जो बड़े-बड़े वादे किए थे और हरियाणा की प्रगति के जो सब्जबाग दिखाये थे वे पूर्णतया छलावा सिद्ध हुए हैं।

डॉ. तंवर ने कहा कि किसानों को उनकी पैदावार के लाभकारी मूल्य देने और स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट लागू करने का जो वायदा भाजपा ने किया था वह केवल एक जुमला ही रह गया। गन्ना उत्पदक मिलों से अपनी उपज की अदायगी के लिए अभी तक मारे-मारे फिर रहे हैं, धान के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य न मिलने के कारण किसानों को मजबूरन कम कीमत पर धान बेचना पड़ रहा है। बाजरे की बिक्री में भी भारी घपला हो रहा है और बिचौलिये सरकार के संरक्षण में लूट मचा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सरकारी कर्मचारी खट्टर सरकार की ज्यादतियों के कारण बहुत दुखी हैं, उन्हें बीते चार सालों में अपने अधिकारों के लिए बारबार आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ा है। रोडवेज कर्मचारी पिछले कई दिनों से हड़ताल पर हैं क्योंकि खट्टर सरकार अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए निजी बसों को रूट परमिट देना चाहती है जिससे हरियाणा रोडवेज को हानि होगी। राज्य के कर्मचारियों को पंजाब के बराबर वेतनमान देने का जो झांसा दिया गया था उससे भी कर्मचारियों में काफी रोष है और आने वाले चुनावों में भाजपा को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

डॉ. तंवर ने कहा कि खट्टर सरकार के संरक्षण में और भाजपा नेताओं की मिलीभगत से यमुना क्षेत्र तथा राज्य के अन्य क्षेत्रों में माइनिंग माफिया पूरी तरह सक्रिय है। उन्होंने कहा कि बीते चार सालों में राज्य में तीन लाख करोड़ रूपए से भी अधिक का माइनिंग घपला हुआ है।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने लोगों की गाढ़े पसीने की कमाई को फजूल की योजनाओं तथा विदेश की यात्रायों पर व्यर्थ लुटाया है। तथाकथित सरस्वती नदी की खोज के लिए सरकारी खजाने पर भारी बोझ डाला गया है परंतु इस नदी से कोई पानी नहीं मिल पाया है। इसी प्रकार विभिन्न समारोहों पर भी फजूलखर्ची की गई है जिससे राज्य के लोगों को कोई लाभ नहीं हुआ है। मुख्यमंत्री अपनी सहयोगीयों के साथ पुंजी निवेश तथा विभिन्न याजनाओं के अध्ययन के बहाने से विदेश यात्रायें की परंतु न तो इनसे राज्य को कोई निवेश मिला और न ही कोई योजना धरातल पर दिखाई दी है। लोगों का ध्यान बांटने के लिए फजूल कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं जिनका कोई औचित्य नहीं है।

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि खट्टर सरकार की अकर्मण्यता के चलते राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति का पूरी तरह दिवाला निकल चुका है जिसके चलते कोई भी व्यक्ति अपने-आपको सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा है। महिलाओं और बेटियों का तो घरों से बाहर निकलना मुहाल हो गया है। हर रोज अखबारों में बलात्कार और अपहरण की खबरें आना आम बात हो गई है। गुण्डा तत्वों में किसी प्रकार का कोई भय नहीं है, ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे सरकार नाम की कोई चीज ही न हो। उन्होंने कहा कि महज अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए भाजपा नेताओं ने राज्य के विभिन्न समुदायों में मनमुटाव की भावना पैदा करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की ढुलमुल और साम्प्रदायिकता को बढ़ावा देने वाली प्रवृति के कारण हरियाणा को तीन बार जलना पड़ा है।

डॉ. तंवर ने कहा कि बीते चार सालों में खट्टर सरकार की कोई ऐसी उपलब्धि नहीं है जिसका वह दावा कर सकें, फिर भी सरकार की ओर से बड़े-बड़े विज्ञापनों और बड़े-बड़े समारोहों पर लोगों के गाढ़े पसीने की कमाई व्यर्थ खर्च की जा रही है।

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से इन चार वर्षों में भाजपा सरकार ने हरियाणा को जलाया, राज्य में आपसी भाईचारे के माहौल को खराब किया है और अपने निक्कमेपन के कारण राज्य को जो आर्थिक और सामाजिक हानि पहुंचाई है आगामी लोक सभा व विधान सभा चुनावों में लोग भाजपा को सबक सिखाने का मन बना चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *