नहीं रहे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी…

Breaking अनहोनी चर्चा में देश बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Chandigarh, 16 August, 2018

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अब इस दुनिया में नहीं रहे हैं। 11 जून से वाजपेयी को एम्स में भर्ती करवाया गया था, तब से ही लगातार उनका इलाज चल रहा था।

लेकिन पिछले 24 घंटों में उनकी हालत अधिक नाजुक बताई जा रही थी, जिसके चलते कई नेता उनसे मिलने और उन्हें देखने के लिए आ रहे थे। भाजपा केबिनट के भी अधिकतर मंत्री यहां उपस्थित रहे।

बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी की जन्मभूमि मध्प्रदेश और कर्मभूमि उत्तरप्रदेश रही है। इसके साथ ही हरियाणा से भी उनका विशेष संबंध रहा है। उन्हें हिंदी कविता लिखने का हमेशा से ही शौक रहा है। वे पत्रकार के साथ प्रखर वक्ता भी रहे हैं।

 

3 बार अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री रहे। 1996 में उन्होंने यह पद हासिल किया था, लेकिन उनकी सरकार सिर्फ 13 दिनों तक ही रह पाई थी। 1998 में दूसरी बार वे फिर सत्ता में आये थे, तब करीब 13 महीनों तक उनकी सरकार चली थी। बाद में 1999 में वाजपेयी तीसरी बार प्रधानमंत्री बने और 5 सालों तक उन्होंने अपना कार्यकाल संभाला।

वायपेयी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के समर्पित प्रचारक भी रहे हैं, जिस कारण उन्होंने पूरी जिन्दगी शादी न करने का फैसला लिया था। उन्होंने सर्वोच्च पद तक पहुंचने तक पूरी निष्ठा के साथ अपने संकल्प को निभाया।

अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ी कुछ खास बातें-

  • लाल बहादुर शस्त्री के नारे ‘जय जवान, जय किसान’ में बदलाव करके वाजपेयी ने ‘जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान’ का नारा दिया था। उन्होंने विज्ञान को बढ़ावा देने के लिए यह बदलाव किया था।
  • वाजपेयी को कविता लिखने को बहुत शौक था, जिसके चलते उन्होंने जगजीत सिंह के साथ मिलकर 2 एल्बम भी रिजीज की।
  • अटल बिहारी वाजपेयी कानपुर के डीएवी कॉलेज से अपने पिता के संग लॉ कर रहे थे, पिता और बेटा दोनों ही एक क्लास में थे और वे हॉस्टल में एक ही रूम में रहते थे। लेकिन जब सब को इस बारे में पता चला, तो उन्होंने अपने सेक्शन अलग करवा लिए थे।
  • वायपेयी ने बताया था कि वह पत्रकार बनना चाहते थे, लेकिन गलती से वह राजनीति में पहुंच गए।
  • 26 पार्टियों के साथ सरकार चलाने वाले वह देश के पहले प्रधानमंत्री थे, उन्होंने इस पद के लिए तीन बार शपथ ली थी और वे पहले ऐसे गैरकांग्रेसी नेता थे, जिन्होंने अपना कार्यकाल पांच सालों तक पूरा किया था।
  • अटल बिहारी वाजपेयी ने शादी नहीं की थी। उन्होंने एक बेटी गोद ली थी, जिसका नाम नमिता है।
  • वे इकलौते नेता थे, जो देश के चार राज्य यूपी, एमपी, गुजरात व दिल्ली से चुनकर संसद में पहुंचे थे। पहले विदेश मंत्री और यूएन की जनरल असेंबली में हिंदी में भाषण देने वाले वे पहले व्यक्ति थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *