अगर आप भी पी रहे हैं बिना उबाले दूध तो हो जाएं सावधान, हो सकती हैं यह जानलेवा बीमारी

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haeyana

12 Nov, 2019

अगर आप यह मानते हैं कि केवल तंबाकू का सेवन करने से ही आपको कैंसर हो सकता है तो आप गलत हैं। दूध पीने से भी यह बीमारी हो सकती है। यह बात हम नहीं बल्कि हिसार लुवास यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट कहती है। लुवास ने हाल ही में अपने यहां आने वाले जानवरों की अल्ट्रासाउंड से डाटाबेस तैयार किया है, जिसमें सामने आया कि भैंस या गाय में भी कैंसर के मामले कम नहीं है

वहीं अब तक वैज्ञानिकों का मानना था कि घोड़ियों में ही कैंसर पाया जाता है। मगर पिछले कुछ समय में दुधारू पशुओं में भी कैंसर के तत्व पाए गए हैं।

पशु विज्ञानी बताते हैं कि अगर इन दुधारू पशुओं का दूध बिना उबाले पिया तो आपको भी कैंसर हो सकता है। हालांकि भारत में खास बात है कि यहां लोग दो से तीन बार दूध उबाल कर पीते हैं। इस कारण दूध में मौजूद कैंसर फैलाने वाले तत्व मर जाते हैं। वैज्ञानिक बताते हैं कि दूध पीने से पहले उसे दो से तीन बार धीमी आग पर जरूर उबालें।

भैंस और गाय के गर्भाशय में कैंसर के आ रहे हैं मामले सामने : लुवास के गायनोकोलॉजी डिपार्टमेंट में पशु वैज्ञानिक डा. आरके चंदोलिया बताते हैं कि हमारे पास जो भी पशु आए, उनका डाइग्नोज किया, जिसमें पाया कि भैंस और गाय के गर्भाशय में कैंसर के कई केस हैं। अगर समय पर पता चल जाता है तो इस केस में उनके गर्भाशय को निकालकर ही उपचार किया जा रहा है। अल्ट्रासाउंड की सुविधा से यह संभव हो सकता है।

पशुओं को जो चारा दिया जा रहा है, उनमें रासायनिक दवाओं का प्रयोग किया जाता है। फसलों में रासायनिक दवाओं के प्रयोग के बाद बारिश के पानी में यह दवाएं मिल जाती हैं। इसके बाद किसी जलाशय से पशु जब पानी पी लेते हैं तो उनमें कैंसर की पूरी-पूरी संभावना रहती है। पशु वैज्ञानिक डा. चंदोलिया बताते हैं कि पशु विज्ञान में विदेशों में काफी काम हो चुका है, भारत में अब इस पर काम में तेजी आई है। हम कोशिश कर रहे हैं कि मनुष्यों की तर्ज पर पशुओं की हर बीमारी को डाइग्नोज किया जाए।बैठक के बारे में दुष्यंत चौटाला का कहना हैं कि यह बैठक मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर की गई हैं वहीं मुख्यमंत्री के साथ मिलकर विभागों के आवंटन को लेकर भी चर्चा की गई हैं मंत्रिमंडल में कितने मंत्री जजपा से होगें इस पर दुष्यंत का कहना है कि यह हमारा अंदरूनी मामला हैं साथ ही कितने निर्दलीय मंत्री बनेंगे यह भी दोनों दलों के द्वारा मिलकर ही तय किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *