मिर्चपुर केस में दिल्ली हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, 20 लोगों को सुनाई उम्रकैद की सजा

Breaking Uncategorized चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 24 August, 2018

दिल्ली हाईकोर्ट ने हरियाणा के मिर्चपुर कांड में बड़ा फैसला सुनाया है। इस मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने 20 आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है. हाईकोर्ट ने इन सभी पर एससी, एसटी एक्ट के तहत सजा सुनाई है। 2011 में रोहिणी कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुनाया था, जिसे पीड़ित पक्ष ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

यह मामला साल 2010 का है जब हरियाणा के हिसार जिले के मिर्चपुर गांव के दलित परिवारों पर हमला किया गया था. इसमें जाति विशेष के नाम पर हिंसा हुई थी जिसमें दो दर्जन से ज्यादा दलितों के घऱ जला दिये गए थे। वहीं इस कांड में 70 साल के दलित बुजुर्ग और उसकी बेटी को भी जिंदा जला दिया गया था।

आरोप है कि दलित परिवार का एक कुत्ता स्वर्ण जाति के दो युवकों पर भौंक रहा था और इसी के चलते दोनों पक्षों में आपसी कहासुनी हुई थी जिसके बाद दलित परिवारों के दो युवकों को चोट लग गई थी और इसके बाद हिंसा ज्यादा बढ़ गई थी।

हालांकि इस मामले में दिल्ली की निचली अदालत ने तीन लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी लेकिन बाकी आरोपियों को छोड़ दिया था लेकिन अब दिल्ली हाईकोर्ट ने निचली अदालत के फैसले को बदलते हुए 17 और लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

देखिये फैसले की पूरी कॉपी

 

इस घटनाक्रम के बाद मिर्चपुर के करीब 254 परिवारों ने गांव से पलायन कर दिया था और वो लगातार हिसार में रह रहे थे. इसके बाद अब सरकार ने इनके लिए सरकार ने रिहायशी कॉलोनी बनाने शुरु की है।

इस मामले में दंगा भड़काने के 7 आरोपियों को डेढ-डेढ साल की सजा मिली और एक वर्ष के प्रोबेशन पर 10-10 हजार रुपये के निजी मुचलके पर रिहा कर दिया था, जबकि इस मामले में 82 आरोपियों को बरी कर दिया था।

वहीं इस मामले में पांच आरोपियों को पांच-पांच साल की कैद और 20-20 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया था।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *