जींद उपचुनाव में भाजपा ने कसी कमर, मंत्रियों, विधायकों, बोर्डों व निगमों के चेयरमैनों ने जींद में डाला डेरा 

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Jind, 17 Jan, 2019

जींद विधानसभा के उपचुनाव का बिगुल बज चुका है। सभी राजनीतिक पार्टियों ने चुनावी रणक्षेत्र में अपने-अपने यौद्धा उतार दिए हैं। आगामी 28 जनवरी को होने वाले इस उपचुनाव को जीतने के लिए भाजपा ने अपनी पूरी ताकत झौंक दी है। इस उपचुनाव में विजयश्री के लिए भाजपा ने माइक्रो मैनेजमेंट का सहारा लिया है।

भाजपा एक-एक वोट को घर से निकाल कर बूथ तक लाने के लिए पूरा जोर लगाए हुए है। भाजपा के लगभग आधा दर्जन दिग्गज मंत्री, दर्जनभर से ज्यादा विधायक, निगमों व बोर्डों के चेयरमैनों ने जींद में अपना डेरा जमा लिया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर अपने मंत्रियों व विधायकों से जींद उपचुनाव की पल-पल की खबर ले रहे हैं। टिकट नहीं मिलने से नाराज होने वाले दूसरे टिकटार्थियों को भी भाजपा नेता साधने में सफल हो गए हैं।

पार्टी के सभी नेता व पदाधिकारी जी-जान से चुनाव प्रचार में जुट गए हैं। भाजपा ने चुनावी माहौल को अपने पक्ष में करने के लिए ऐडी-चोटी का जोर लगा दिया है। काबिले-जिक्र है कि आगमी 28 जनवरी को जींद विधानसभा का उपचुनाव होना है। इस उपचुनाव को अक्तूबर 2019 के विधानसभा चुनाव का सैमीफाइनल माना जा रहा है।

इस उपचुनाव को जो पार्टी जितने में सफल रहेगी, आगामी विधानसभा चुनाव में उसी पार्टी के पक्ष में माहौल बनेगा। इसके चलते यह उपचुनाव सभी पार्टियों की प्रतिष्ठा का सवाल बना हुआ है। भाजपा ने इस चुनावी चुनौति को स्वीकार करते हुए अपनी पूरी ताकत झौंक दी है। भाजपा बड़ी बारिकी से वोटरों पर नजर बनाए हुए है।

भाजपा ने बूथ स्तर से भी दो कदम आगे बढ़ाते हुए पन्ना प्रमुख तक तय कर दिए हैं। वोटर लिस्ट के एक पन्ने पर जितने लोगों की सूची है उस पन्ने का भी भाजपा ने प्रमुख बनाया हुआ है। इस प्रकार भाजपा ने चुनाव को जीतने और विरोधी पार्टियों को घेरने के लिए पूरा चक्रव्यूह रच दिया है।

घर-घर दस्तक दे रहे हैं भाजपा के मंत्री व विधायक

भाजपा ने चुनावी दंगल में जीत हासिल करने के लिए जबरदस्त प्लानिंग तय की है। भाजपा द्वारा इस उपचुनाव में रैली कर अपनी ताकत दिखाने की बजाए घर-घर जाकर वोटरों को रिझाने का प्रयास किया जा रहा है। इस समय भाजपा के लगभग आधा दर्जन दिग्गज मंत्री व विधायक घर-घर जाकर लोगों से वोटों की अपील कर रहे हैं। एक-एक मौहल्ले में मंत्रियों द्वारा जनसभाएं की जा रही हैं। ताकि अधिक से अधिक वोटरों तक पहुंच कर उन्हें भाजपा के पक्ष में किया जा सके। मंत्रियों व विधायकों के अलावा निगमों व बोर्डों के चेयरमैन भी चुनाव प्रचार में जोर-शोर से जुटे हुए हैं।

रूठे हुओं को मनाने में सफल रही भाजपा 

जींद उपचुनाव को लेकर भाजपा के पास टिकटार्थियों की सबसे लंबी लाइन थी। भाजपा के पास टिकट के लिए 11 उम्मीदवार थे। लेकिन भाजपा ने डॉ. कृष्ण मिढ्ढा पर अपना दाव खेला। डॉ. कृष्ण मिढ्ढा को टिकट मिलने के बाद टिकट के कई दावेदार नाराज हो गए थे और उन्होंने अपने बागी तेवर दिखाने शुरू कर दिए थे, लेकिन भाजपा ने नाराज हुए सभी लोगों को मना लिया। पूर्व सांसद सुरेंद्र बरवाला ने भी अपना समर्थन भाजपा को दे दिया और भाजपा नेताओं के साथ मिलकर सुरेंद्र बरवाला ने भाजप के पक्ष में अपना प्रचार अभियान शुरू कर दिया। वहीं देर-सवेर टेकराम कंडेला भी भाजपा को अपना समर्थन दे सकते हैं। अब भाजपा के सभी पदाधिकारी एक मंच पर आकर भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में खड़े नजर आ रहे हैं।

चुनावी युद्ध में मुख्यमंत्री बनेंगे भाजपा प्रत्याशी के सारथी

जींद के इस उपचुनाव के युद्ध में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भाजपा प्रत्याशी डॉ. कृष्ण मिढ्ढा के सारथी बनकर उन्हें विजयी बनाने का काम करेंगे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर संभवत 25 जनवरी से जींद में डेरा डालकर डॉ. कृष्ण मिढ्ढा के पक्ष में प्रचार अभियान की कमान संभालेंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री घर-घर जाकर प्रचार करेंगे। इतना ही नहीं एक-एक दिन में मुख्यमंत्री की सैंकड़ों घरों में चाय के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। कयास लगाए जा रहे हैं कि मुख्यमंत्री लगभग तीन दिनों तक अपना प्रचार अभियान चलाएंगे। चुनाव के इन अंतिम दिनों में मुख्यमंत्री के यह दौरे भाजपा के पक्ष में माहौल तैयार कर भाजपा प्रत्याशी डॉ. कृष्ण मिढ्ढा की जीत को निश्चित से सुनिश्चित करेंगे।

विवेकानंद फाउंडेशन ने जोर-शोर से शुरू किया प्रचार अभियान

विवेकानंद फाउंडेशन के सभी सदस्यों ने अपनी पूरी टीम के साथ मुख्यमंत्री के निजी सचिव राजेश गोयल के नेतृत्व में प्रचार अभियान शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री के निजी सचिव राजेश गोयल व विवेकानंद फाउंडेशन के चुनावी मैदान में आने से भाजपा का पलड़ा मजबूत हो गया है। पूरी तरह से भाजपा के पक्ष में माहौल बनता नजर आ रहा है। जिस तरह से जिले में भाजपा के पक्ष में माहौल बन रहा है उसे देखते हुए यह साफ हो रहा है कि भाजपा इस उपचुनाव में बाजी पलट कर जींद विधानसभा की सीट पर कमल का फूल खिलाने में सफल हो सकती है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *