Home Breaking इनेलो राज्य कार्यकारिणी की बैठक में बड़े स्तर पर बीजेपी-जेजेपी के कार्यकर्ता इनेलो में हुए शामिल

इनेलो राज्य कार्यकारिणी की बैठक में बड़े स्तर पर बीजेपी-जेजेपी के कार्यकर्ता इनेलो में हुए शामिल

0
0Shares

Yuva Haryana, Jind

इनेलो नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला व प्रदेश अध्यक्ष नफे सिंह राठी ने जींद में हुई पार्टी राज्य कार्यकारिणी की बैठक के दौरान कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि पिछले दिनों कुरुक्षेत्र के लाडवा ब्लॉक और अम्बाला आदि जिलों में हुई भारी ओलावृष्टि की वजह से प्रदेश के किसानों के चेहरे उतर गए हैं क्योंकि इस ओलावृष्टि से गेहूं व आलू के साथ-साथ अन्य फसलों को भी बड़ा नुकसान हुआ है।

प्रदेश की गठबंधन सरकार को चाहिए कि तुरंत स्पेशल गिरदावरी करवाकर किसानों को उचित मुआवजा दे ताकि किसान को उनकी नष्ट हुई फसल की भरपाई हो सके। गठबंधन की सरकार को मुआवजे के साथ जिन किसानों की फसलों का नुक़सान हुआ है उनका इस वर्ष का मालीया भी माफ करना चाहिए।

इनेलो नेता ने अपने सम्बोधन में कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाली इनेलो सरकार के शासनकाल के दौरान एसवाईएल से हरियाणा के हक का पानी लेने के लिए न्यायालय के अंदर-बाहर पुरजोर तरीके से आवाज उठाई थी। पिछले पांच वर्षों में इनेलो कार्यकर्ताओं ने हजारों की संख्या में गिरफ्तारियां देकर भाजपा की केंद्र व प्रदेश की सोईं हुई सरकार को जगाने का काम किया।

अभय सिंह चौटाला के नेतृत्व में इनेलो विधायक-मंडल ने माननीय राष्ट्रपति जी, केंद्रीय जल और संसाधन मंत्री व महामहिम राज्यपाल को ज्ञापन देकर उच्चतम न्यायालय के फ़ैसले के अनुसार केंद्र सरकार की देखरेख में एसवाईएल नहर का निर्माण करवाने का अनुरोध किया था।

इनेलो कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में जंतर मंतर पर लगातार तीन महीने धरना देकर केंद्र की सोई सरकार को जगाने का प्रयास किया। इनेलो नेत्रत्व के साथ कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में संसद का घेराव किया जिसमें सैकड़ों कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज करने की वजह से उनको चोटें भी आई।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार के साढ़े नौ साल और भाजपा के लगभग छह साल के शासनकाल के दौरान आज तक इन राष्ट्रीय पार्टियों ने एसवाईएल पर कोई ठोस कदम उठाने का साहस नहीं दिखाया है।

उच्चतम न्यायालय ने अपने आदेश में कहा है कि अगर पंजाब सरकार नहर का निर्माण नहीं करती तो केंद्र सरकार निर्माण कार्य पूरा करवाए। लेकिन प्रदेश की गठबंधन की सरकार किसानों की अनदेखी कर इस मामले को पुरजोर तरीके से नहीं उठा रही है जबकि पंजाब में कांग्रेस की सरकार ने सभी दलों का सहयोग लेकर विधानसभा में एकमत से रेजूलेशन पास किया है कि पंजाब हरियाणा को एक भी बूँद पानी नहीं देगा। गठबंधन की सरकार हाथ पे हाथ धरे बैठी है, इसको केवल अपनी कुर्सी की चिंता है। इनेलो नेता ने इस दौरान पार्टी में मौजूद सभी कार्यकर्ताओं ने एसवाईएल नहर निर्माण के लिए कोई भी क़ुर्बानी देने के लिए तैयार रहने के लिए कहा।

उन्होंने कहा कि फरवरी माह में विधानसभा सत्र के दौरान भी एसवाईएल मुद्दा पुरजोर उठाया जाएगा और प्रदेश के प्रत्येक हलके में जाकर प्रदेशवासियों को जागृत किया जाएगा। उन्होंने कार्यकर्ताओं से संगठन को और मजबूत करने के लिए अन्य लोगों को जोडऩे का भी आह्वान किया।

इस दौरान 112 भाजपा-जजपा कार्यकर्ताओं ने अपनी पार्टी छोड़ कर इनेलो में अपनी आस्था जताई जिनको चौधरी अभय सिंह चौटाला और पार्टी प्रदेशाध्यक्ष नफे सिंह राठी ने भरपूर मान-सम्मान देने का भरोसा दिलाया। बैठक में सभी पूर्व विधायक, सभी प्रकोष्ठों के संयोजक और सैकड़ों कार्यकर्ता भी उपस्थित रहे।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की ओर से विद्यार्थियों को बड़ी राहत, घटाया जाएगा पाठ्यक्रम

Yuva Haryana, Chandigarh हरियाणा के …