पूर्व मंत्री और बीजेपी के दिग्गज नेता जेजेपी में शामिल, आज औपचारिक रूप से किया ऐलान

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

पलवल जिले में बीजेपी को बड़ा राजनैतिक झटका लगया है। मोदी सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर के लोकसभा क्षेत्र से संबंध रखने वाले पूर्व मंत्री हर्ष कुमार ने अपने हजारों समर्थकों के साथ रविवार को बीजेपी छोड़ कर जननायक जनता पार्टी में शामिल होने की घोषणा की। हर्ष कुमार ने इस अवसर पर हथीन में एक रैली कर अपनी राजनैतिक ताकतभी दिखाई। हर्ष कुमार का शामिल होना पलवल,फरीदाबाद व मेवात के लिए बड़ी राजनैतिक सफलता के रूप में देखा जा रहा है वहीं बीजेपी के लिए के लिए यह सियासी तौर पर बड़ा आघात माना जा रहा है। हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने पूर्व मंत्री हर्ष कुमार व उनके समर्थकों का पार्टी का स्वागत करते हुए पार्टी का झंडा देकर जेजेपी परिवार का सदस्य बनाया। सांसद दुष्यंत ने कहा कि जेजेपी परिवार में पूर्व मंत्री व उनके समर्थकों को पूरा मान-सम्मान मिलेगा। पूर्व मंत्री हर्ष कुमार के पार्टी में आने से एनसीआर में जेजेपी को बड़ी मजबूती मिलेगी। इससे पहले सांसद दुष्यंत चौटाला को करीब पांच हजार मोटरसाइकिल और वाहनों के बड़े काफिले व ढोल-नगाड़ों के साथ पलवल से ही आयोजन स्थल तक लाया गया। दुष्यंत की एक झलक पाने के लिए युवाओं में ही नहीं बल्कि बुजूगों में भी जोश देखने लायक था। जनता ने दुष्यंत चौटाला चौ. देवीलाल की झलक देखकर उन्हें अपना आशीर्वाद दिया।
ूूपूर्व मंत्री हर्ष कुमार की पलवल जिले में राजनैतिक पकड़ है। उनके पिता चौ. राजेंद्र सिंह ने चौ. देवीलाल के साथ मिलकर काम किया था। साफ छवि के धनी हर्ष कुमार ने वर्ष 2014 में हथीन विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी की टिकट पर चुनाव लड़ा था और लगभग तीन हजार वोटों से पराजित हुए थे। वे 1996 में हरियाणा विकास पार्टी की टिकट पर हथीन से विधायक चुने गए और चौ. बंसीलाल सरकार ने उन्हें अपनी सरकार में सिंचाई मंत्री बनाया।  इसके बाद वर्ष 2005 वे हथीन से ही निर्दलीय विधायक चुने गए थे। वर्ष 2009 में उन्होंने कांग्रेस की टिकट पर इसी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा। हर्ष कुमार की पहचान इस क्षेत्र में जमीन से जुड़े हुए एक मजबूत ईमानदार और बात के धनी के रूप में होती है।
हर्ष कुमार ने बीजेपी आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी धर्म व सम्प्रदाय और जात-पात की राजनीति करती। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार ने इस क्षेत्र के विकास के लिए जो वायदे किए थे, उन वायदा पर वायदों पर खरी नहीं उतरी और लोगों के हितों की अनदेखी की। इसलिए उन्होंने बीजेपी को अलविदा कहना पड़ा। उन्होंने कहा कि जेजेपी चौ. देवीलाल की विचाराधारा पर चलने वाली पार्टी है।  उन्होंने ने भी चौ. देवीलाल से राजनीति सीखी है और उनके साथ 1987 तक काम किया। उन्होंने कहा कि आज एक बार फिर चौ. देवीलाल की विचाराधारा पर चलने वाली पार्टी में शामिल होने पर वह गर्व महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे पार्टी की मजबूती के लिए दिन-रात काम करेंगे। रैली को पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनंतराम तंवर, पूर्व मंत्री जगदीश नैय्यर, प्रदेश उपाध्यक्ष बलदेव अलावलपुर, विनोद भारद्वाज, तूहीराम भारद्वाज, नागेश तेवतिया, बिरेंद्र सिंह, सुखराम डागर, नाजीमखान,मेवात जिला अध्यक्ष बदरूद्दीन, महिला जिला अध्यक्ष लता भारद्वाज, पूर्व सरपंच कासम, सरपंच जाकिर हुसैन, पंचायत समिति चेयरमैन, जाकिर हुसैन, पूर्व नपा चेयरमैन राजबीर, पूर्व चेयरमैन मंगलसिंह, पूर्व सरपंच फारूख, गजराज सहरावत सहित भारी संख्या में अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे।

सांसद दुष्यंत ने मोदी सरकार को वाजपेयी सरकार की नीति को याद दिलवाते हुए कहा
शहीदों के परिजनों को मोदी सरकार दे गैस एजेंसी व पेटोल पंप
मोदी सरकार शहीदों के परिजनों को मुहैया करवाए वाजपेयी सरकार की सुविधाएं-दुष्यंत

हथीन 17 फरवरी। सांसद दुष्यंत चौटाला ने हथीन मोदिस पब्लिक स्कूल के ग्रांउड में उमड़े जनसैलाब को संबोधित करते हुए कहा कि जेजेपी की सरकार बनने पर बेरोजगारों को रोजगार और बुर्जूगों को 58 वर्ष और महिलाओं को 55 वर्ष में आयु में बुढ़ापा पेंशन दी जाएगी। प्रदेश के जेजेपी के सत्तासीन होने पर कर्मचारियों के हित में पुरानी पेंशन बहाल होगी, युवाओं के लिए निजी क्षेत्र में 75 प्रतिशत नौकरियां प्रदेश के युवाओं के लिए आरक्षण सुनिश्चित की जाएगी।
उन्होंने प्रधानमंत्री से कहा कि पूर्व सरकार की भांति शहीदों के प्रति दरियादिली दिखाते हुए उनके परिवारों को आर्थिक रूप से सक्षम करने के लिए व्यापक कदम उठाए। शहीदों के बच्चों का लालन-पालन के लिए सरकार को वाजपेयी सरकार की तर्ज पर गैस एजेंसी व पेट्रोप पंप तुरंत प्रभाव से आवंटित करने चाहिए।
भीड़ से गदगद नजर आए सांसद दुष्यंत ने कहा कि हरियाणा महिला के खिलाफ अपराधों के मामले में पांचवें स्थान पर है जोकि चिंतनीय विषय है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित नहीं है। जेजेपी की सरकार आने पर महिला सुरक्षा सुनिश्चित की जाएगी। किसान आवारा पशुओं से खासे परेशान हैं और आवारा पशु आए दिन खड़ी फसल को तबाह कर देते हैं। इतना ही नहं ये पशु सड़कों पर कईयों की जान भी ले चुके हैं। दुष्यंत ने कहा कि खिागड़ों व आम लोगों को गुंडोंसे मुक्ति दिलवाई जाएगी।
उन्होंने कहा कि जेजेपी ने 60 दिनों में जींद उपचुनाव में 38 हजार वोट लेकर भाजपा, कांग्रेस व इनेलो की बोलती बंद कर दी है, हम यहीं रूकने वाले नहीं है, यह सिलसिला जारी रहेगा। उन्होंने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि प्रदेश के एक करोड़ 72 लाख मतदाताओं में से 40 प्रतिशत वोट लेना जेजेपी का लक्ष्य है और इस लक्ष्य को ध्यान में रख कर एक-एक व्यक्ति को पार्टी से जोडऩे का काम करें।
दुष्यंत चौटाला ने रोजगार के मुद्दे पर भाजपा सरकार को घेरते हुए कहा कि चुनाव से पहले मोदी सरकार ने देश में दो करोड़ और प्रदेश में सवा लाख बेरोजगारों को रोजगार देने का वायदा किया था। लेकिन केंद्र सरकार देश में दो लाख युवाओं को भी रोजगार नहीं दे सकी। ग्रुप डीकी भर्ती कटाक्ष करते हुए कहा कि उन्होंने कहा कि कितनी विडंबना है कि माली, चौकीदार व बेलदार जैसी पदों पर पीएचडी, एमफिल और एमटैक योग्यता वाले युवाओं को नौकरी देकर उनके साथ भद्दा मजाक किया गया। 18 लाख युवाओं को चतुर्थ श्रेणी पदों के लिए 18 लाख युवाओं को धक्के खाने पड़े।
केंद्र सरकार द्वारा किसानों को छह हजार रूपये की आर्थिक सहायता को लेकर दुष्यंत ने कड़ा प्रहार किया कि चार वर्ष तक मोदी सरकार सोई रही और अब वोट लेेने के लिए चुनावों से पहले किसानों के खातों में दो-दो हजार रूपये डाल कर उन्हें लॉलीपाप दे रही है। इससे किसानों को भला होने वाला नहीं है, क्योंकि यह तीन माह का अंतरिम बजट है, नई सरकार इस योजना को लागू करेगी या नहीं, इसका कोई भरोसा नहीं। इस अवसर
बाक्स
यहां रेली में पलवल के कार्यकर्ताओं द्वारा दी गई राशि को सांसद दुष्यंत चौटाला ने खुद स्वीकार करने से स्पष्ट मना कर दिया। हर्ष कुमार द्वारा आयोजित इस रैली में विभिन्न समुदायों के लोगों ने करीबन दो लाख 10 हजार रूपये की राशि सांसद दुष्यंत चौटाला को अलग-अलग को भेंंट करना चाह रहे थे।  उन्होंने इस राशि को पलवल जिले के कार्यकर्ताओं की ओर से पुलवामा में शहीद हुए सीआरपीएफ के परिजनों को बतौर सहायता देने की घोषणा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *