युवक को ब्लैकमेल कर मांगी थी एक करोड़ की फिरौती, एक युवती समेत 3 लोग गिरफ्तार

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana
Sirsa, 11 August, 2018

आज के जमाने में जहां सोशल मीडिया के फायदे हैं तो वहीं इसके घाटे भी बहुत सामने आ रहे हैं। एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमें व्हाट्सएप्प के जरिये पहले तो युवती ने वीडियो कॉल किया और बाद में युवक को अपने जाल में फंसा लिया।

जानकारी के मुताबिक डिंग थाना पुलिस व सीआईए सिरसा पुलिस ने ब्लैकमेलिंग के एक मामले में एक युवती समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान अर्पण पुत्री सुखपाल सिंह, निवासी पंजाब, लखवीर सिंह पुत्र हरदीप  सिंह और गुरमीत सिंह के रुप में हुई है।

जानकारी के मुताबिक आरोपी युवती अर्पण ने फतेहाबाद के दीक्षांत को वीडियो कॉल करके अपने जाल में फंसाया था, कुछ दिन बात करने के बाद युवती ने उसे मिलने के लिए बुला लिया। दीक्षांत युवती से मिलने के लिए चला गया।

यहां पर युवती ने उसे फतेहाबाद से लेकर सिरसा छोड़ने की बात कही, लेकिन रास्ते में ही युवती ने एक जगह पर दीक्षांत की कार रुकवा ली, इतने में ही एक स्कॉर्पियो गाड़ी आकर रुकी और उसमें सवार चार युवक उसे गाड़ी में बैठाकर ले गए। इस दौरान युवती भी उन लोगों के साथ चली गई।

आरोप है कि युवकों ने दीक्षांत को पंजाब में लेकर जाकर नशे की दवाई पिला दी और उसकी अर्पण के साथ अश्लील वीडियो बना ली। जिसके बाद दीक्षांत के साथ मारपीट की गई और वीडियो दिखाकर एक करोड़ रुपये मांगे ।

दीक्षांत ने एक करोड़ रुपये देने से इंकार किया तो आरोपियों ने दीक्षांत के साथ मारपीट की जिसके बाद पीड़ित युवक ने दस लाख रुपये देने की बात कही, जिसके बाद आरोपियों ने उसे छोड़ दिया।

घर आने के बाद दीक्षांत ने पूरी बात परिजनों को बताई, परिजनों ने इसकी शिकायत पुलिस को दी। पुलिस ने इस मामले में पूरी टीम गठित की और आरोपियों की धरपकड़ करने के लिए योजना बनाई ।

पुलिस की पूरी योजना के तहत आरोपियों को रकम देने के लिए फतेहाबाद के सोमा सिटी बुलाया गया, जहां पर दीक्षांत को पैसे देकर भेजा गया, जैसे ही आरोपियों ने पैसे पकड़े उसके बाद पुलिस ने आरोपियों को घेर लिया और तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

इस संबंध में फतेहाबाद निवासी दीक्षांत के पिता दलीप की शिकायत पर डिंग थाना में आरोपियों के खिलाफ अपहरण, ब्लैकमेल कर फिरौती मांगने तथा ठगी करने व शस्त्र अधिनियम के तहत अभियोग दर्ज किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *