रेप केस में अदालत के आदेश के बाद बसपा नेता तैयब हुसैन भीमसिका की मुश्किलें बढ़ी

Breaking हरियाणा

Bhagat Tewatia, Yuva Haryana

Palwal, (22 March 2018)

6 सितंबर 2016 को दर्ज रेप अपहरण के मामले में पुलिस ने अपनी तरफ से कहा कि उन्हें इस मामले में किसी को गिरफ्तार करने का कोई ठोस प्रमाण नहीं मिल पाया है। इस कारण अन्टरेस रिर्पोट पेश की गई। परंतु अतिरिक्त सेशन जज ने पुलिस की रिपोर्ट को नकारते हुए कहा कि मैडिकल जांच के दौरान लिए गए कपडो पर अंश थे, फिर डीएनए कराने के लिए आरोपी का ब्लड सैपंल क्यों नहीं लिया गया। जबकि एफएसएल रिर्पोट के मुताबिक कपडों पर अंश थे।अदालत के आदेश के बाद बसपा नेता तैयब हुसैन भीमसिका की मुश्किलें बढ़ गई है। अतिरिक्त मुख्य न्यायाधीश अमित कुमार शर्मा की अदालत ने तैयब हुसैन और अन्य लोगों द्वारा अपहरण रेप केस में पास्को एक्ट के तहत मुकदमे में एन्टरेस रिपोर्ट को नकारते हुए पलवल जिला पुलिस को निर्देश दिए हैं कि इस मामले की दोबारा जांच कराई जाए।

बता दें बसपा नेता तैय्यूब हुसैन भीमसीका और पांच अन्य लोगों पर नाबालिग लडक़ी के अपहरण रेप का मामला 6 सितंबर 2016 को दर्ज हुआ था। पीड़ित लड़की की मां द्वारा पुलिस अधीक्षक को दी शिकायत के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया था। मामला दर्ज होने के बाद आरोपी फरार हो गए थे। पुलिस ने लडक़ी की बरामदगी को लेकर दिल्ली में कई स्थानों पर दबिश देकर लडकी को बरामद कर लिया था।

तयैब हुसैन ने पिछला विधानसभा चुनाव हथीन से बसपा की टिकट पर लड़ा था। हथीन की एक महिला ने पुलिस अधीक्षक को दी शिकायत में बताया है कि वह छह बच्चों की मां है। उनका पति दिमागी रूप से कमजोर है। उन्होंने शिकायत में बताया है कि उनकी नाबालिग बेटी के साथ फलेंडी निवासी साहून पुत्र मजीद ने 2015 में दुष्कर्म किया था। जिसका मामला एफआईआर 248 के तहत पिछले साल अगस्त में दर्ज हुआ था। मामले में दोषी को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था।

महिला की शिकायत में आरोप हैं कि उपरोक्त आरोपियों ने साहून के परिवार से मिलकर डरा धमकाकर राजीनामा करा दिया। आरोप हैं कि राजीनामे के बाबत तयैब हुसैन उर्फ नजीर, इलियास, मीना, साहबदीन, आमीन ने आरोपियों से आठ लाख रुपये ले लिए। लेकिन उसे वे उसके परिवार को कोई राशि नहीं दी। शिकायत में बताया गया हैं कि जब पैसे की बाबत आरोपियों से की गई तो उन्होंने जयंती मोड़ पर उनकी बेटी समेत बुला लिया। तभी से उनकी बेटी आरोपियों के कब्जे में हैं। आरोप लगाया गया हैं कि एक साल से ही नाबालिग लडक़ी को गायब किया हुआ है। अपहरण की गई लडक़ी का सुराग दिल्ली में लगा है। वहीं आरोपी मामला दर्ज होने के बाद भूमिगत हो गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *