Home Breaking 30 हजार जिंदा मुर्गों को खेत में दफनाया, ये है बड़ी वजह

30 हजार जिंदा मुर्गों को खेत में दफनाया, ये है बड़ी वजह

0
0Shares

Yuva Haryana, Bhiwani

हरियाणा के भिवानी में एक अलग तरह का मामला सामने आया है। वायरस के कारण पहले चिकन यानि मुर्गे के मीट के दाम गिरे तो फिर 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा होने के बाद व्‍यापार पूरी तरह से बंद हो गया। ऐसे में अब मुर्गी फार्म संचालकों ने हाथ खड़े कर दिए हैं और वे खुद को फार्म में पल रहे मुर्गों को दाना खिलाने के लिए सक्षम नहीं बता रहे हैं। आलम ये है कि भिवानी के ढिगावा में मुर्गी फार्म संचालक ने 30000 मुर्गियों को जिंदा दफना दिया। मुर्गी फार्म ने बताया कि इससे उन्‍हें लाखों रुपये का नुकसान हुआ है।

व्‍यापार ठप होने के कारण मुर्गियों को डालने के लिए फीड नहीं मिल रहा है। मुर्गियां 25 से 30 दिन की हो चुकी थी जिनका वजन 1000 से 1500 ग्राम हो गया था। कोई खरीदार नहीं था तो इनकी सप्‍लाई भी अब कहीं नहीं हो सकती थी। क्‍योंकि होटल समेत सब कुछ बंद है। ऐसे में ऐसा करना पड़ा है। इस मंजर को जिसने भी देखा वो चर्चा करने में जुटा है।

बता दें कि चिकन खाने से कोरोना फैल सकता है, इस तरह की अफवाहें सोशल मीडिया पर खूब चलीं। अफवाहों का असर ये हुआ कि लोगों ने चिकन खाना बंद कर दिया। जिसके कारण चिकन के भाव लगातार गिरते गए। फार्म संचालक इस हालत को लेकर बेहद चिंतित थे। इसके बाद 25 मार्च को पीएम मोदी ने देशभर में लॉकडाउन की घोषणा कर दी। ऐसे में मुर्गे फार्मों में ही कैद होकर रह गए।

फार्म संचालकों ने कहा अगर मुर्गों को नहीं दफनाते तो ये भूख से ही मर जाते। इसके कारण दुर्गंध भी फैलती और इसके कारण बीमारी भी फैलने का भय बना रहता। इसलिए मुर्गों को जमीन में दफनाने का फैसला लिया गया है। दरअसल ये मामला केवल अब भिवानी तक सिमित नहीं है, बल्कि देशभर में अब यही स्थिति बनती जा रही है। वहीं मुर्गों के दाम गिरने से मछली और बकरे के मांस की डिमांड बढ़ गई थी। अंडों के दाम भी गिरने लगे थे। लॉकडाउन के बाद कहीं भी अब मांस की बिक्री नहीं हो रही है। ऐसे में मांस से जुड़ा कारोबार करने वाले लाेग बुरी तरह से प्रभावित है।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

पंचकूला में मिले कोरोना के चार नए मरीज, देखिए 24 घंटों कितनी हुई बढ़ोतरी

Umang Sheoran, Yuva Haryana, Panchkula पंचकूला &…