करनाल की अर्चना ने ड्राइवर बन पेश की मिसाल, हमेशा से कुछ अलग करने का था सपना

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Karnal, 16 June, 2018

महिलाओं को कमजोर न समझें।

महिलाओं से ही यह संसार चल रहा है। जिन्दगी की सबसे बड़ी पीड़ा सहन कर वो साबित करती है कि यहां पर सबसे शक्तिशाली एक महिला ही है।

ऐसी ही करनाल के बल्ला गांव की एक महिला ड्राइवर है, जिसने सबके लिए मिसाल कायम की है। जिसे हाल ही में बस चलाने के लिए तैनात किया गया है।

30 साल की अर्चना ने यह साबित कर दिया है कि कभी भी जिन्दगी में कोई काम छोटा नहीं होता। जब दिल में इच्छा कुछ अच्छा करने की हो, तो हर छोटा काम भी बड़ा हो जाता है।

अर्चना ही नहीं उनकी कंडक्टर सरीता भी उनके साथ- साथ इस कार्य में उनका पूरा साथ देती हैं। अचर्ना ने बताया कि वे हमेशा से कुछ ऐसा करना चाहती थी जो सबसे अलग हो।

इसके लिए उन्होंने करनाल बस स्टैंड से बस चलाने के लिए ट्रेनिंग भी ली। आज अर्चना सभी महिलाओं और पुरुषों के लिए मिसाल बन गई हैं। अर्चना और सरीता ने सरकार का आभार प्रकट करते हुए कहा कि उन्हें काफी अच्छा मौका दिया गया है।

उन्होंने हर महिला के लिए संदेश भी दिया और कहा कि सभी महिलाओं को घर से बाहर निकलना चाहिए, क्योंकि ऐसा कोई भी काम नहीं हैं, जो कि महिलाएं नहीं कर सकती।

अर्चना जींद के रजाना गांव में पैदा हुई थी, 18 साल की उम्र में ही उनकी शादी धरमेंद्र से हो गई थी, जो कि एक टैक्सी चलाने का काम करते हैं। अर्चना ने बताया कि पति धरमेंद्र ने उनका सपना पूरा करवाने में पूरी सहायता की है।

हालांकि अर्चना ने कहा कि शुरू में उन्होंने भी काफी दिक्कतों का सामना किया था, लेकिन यह लाजमी है। अब वह पूरे तरीके से अपने काम में अपना ध्यान लगा पाती हैं और अब कोई परेशानी नहीं हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *