बच्चों की ‘रक्षक’ य ‘भक्षक’, क्या हैं स्कूल बसें ?

अनहोनी हरियाणा

मां-बाप अपने बच्चों को बड़े ही विश्वास के साथ स्कूल बस में भेजते है लेकिन कुछ दिनों से उनका विश्वास अब जैसे डगमगाने लगा है।
स्कूल बसों के बढ़ते हादसे रुकने का नाम नहीं ले रहें हैं, रोज एक एक्सीडेंट की घटना सामने आती है। यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, और पानीपत में हुई एक साथ दुर्घटनाओं में जहां एक महिला और छात्र की मौत हो गई, वहीं सात बच्चों समेत 21 लोग घायल हो गए।

तीन हादसे एक साथ –

पानीपत में सुबह धूंध होने के कारण दो बसो की आमने सामने की टक्कर हो गई। जिसमें से एक गीता पब्लिक और दूसरा संस्कृति स्कूल की बस शामिल थी। ओवरटेक के प्रयास में ये हादसा हुआ। एक बस में करीब 43 बच्चे मौजूद थे और दूसरी बस के चालक और किलीनर गंभीर रुप से घायल हो गए। वहीं यमुनानगर में संत निश्चल सिंह पब्लिक सकूल की बस ने एक 62 साल की बुजुर्ग महिला चंद्रकांता को कुचल दिया। जिससे उनकी मौत हो गई। गुस्साए परिजनों और लोगों ने जमकर बस के साथ तोड़फोड़ की।

ऐसा ही दिल दहला देने वाला हादसा कुरुक्षेत्र में भी हुआ जिसमें पिहोवा स्थित भगवान परशुराम स्कूल जा रहे 11वीं के छात्र प्रिंस की बाइक को असमानपुर के पास स्कूल बस ने टक्कर मार दी। इस हदसे में प्रिंस की मौके पर ही मौत हो गई। अब इसे स्कूल बस चालक की लापरवाही कहें या कुछ और लेकिन बच्चों के लिए तो ये बहुत खतरनाक होता जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *